Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

छह माह की कमाई कुछ पल में राख : जींद में चार जगह आग लगने से 53 एकड़ गेहूं की फसल जली

जब तक आग पर काबू पाया जाता तब तक गांव डिडवाडा निवासी सुरेश की अढ़ाई एकड़, अनिल की अढ़ाई एकड़, राजपाल की तीन एकड़ तथा रोशन की दो एकड़ की फसल जलकर राख हो चुकी थी।

छह माह की कमाई कुछ पल में राख : जींद में चार जगह आग लगने से 53 एकड़ गेहूं की फसल जली
X

 खेतों में पहुंची फायर ब्रिगेड की गाड़ी और जले हुए खेत।

हरिभूमि न्यूज. जींद

तापमान बढ़ रहा है और गेहूं की कटाई का सीजन रफ्तार पकड़ रहा है। ऐसे हालातों में खेतों में आगजनी की घटनाएं बढ़ने लगी है। जिन्होंने किसानों को खून के आसूं बहाने को मजबूर कर दिया है। सफीदों, नरवाना व पिल्लूखेड़ा इलाके के खेतों में भड़की आग ने 53 एकड़ खड़ी गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। ग्रामीणों के सहयोग से फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने मौके पर पहुंच आग पर काबू पाया लेकिन तब तक किसानों की फसल जलकर राख हो चुकी थी।

गांव डिडवाडा के निकट खेतों में शुक्रवार को आग भड़क उठी। जिसने कुछ ही क्षण में विकराल रूप धारण कर लिया। खेतों में आग भड़की देख ग्रामीण ट्रैक्टर व अन्य संसाधन लेकर खेतों में पहुंच गए और हेरो की सहायता से खड़ी फसल को रौंदकर आग को आगे बढ़ने से रोक लिया। उसी दौरान फायर ब्रिगेड की गाड़ी मौके पर पहुंच गई और ग्रामीणों के सहयोग से काबू पा लिया। जब तक आग पर काबू पाया जाता तब तक गांव डिडवाडा निवासी सुरेश की अढ़ाई एकड़, अनिल की अढ़ाई एकड़, राजपाल की तीन एकड़ तथा रोशन की दो एकड़ की फसल जलकर राख हो चुकी थी। उधर, गांव रामपुरा निवासी इकबाल की पांच एकड़ तथा गांव रिटौली निवासी इंद्र सिंह की आठ एकड़ खड़ी गेहूं की फसल जलकर राख हो गई। यहां पर भी फायर ब्रिगेड की गाड़ी ने आग पर काबू पाया।

धनौरी खेतों में 30 एकड़ फसल जली

गांव धनौरी में शुक्रवार शाम को खेतों में आग लगने के कारण तीन किसानों ने 30 एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख हो गया। बताया जा रहा है शाम चार बजे अचानक खेतों में आग लगने की सूचना ग्रामीणों को मिली। आग पर काबू पाने के लिए धनौरी व आसपास क्षेत्र के लोग खेतों तरफ दौड़े और दमकल विभाग को आग लगने की सूचना दी लेकिन जब तक आग पर काबू पाया गया तब तक किसान नंदा की 20 एकड़, अजमेर पुत्र भल्ला की चार व अजमेर पुत्र रतीराम की छह एकड़़ गेहूं की खड़ी फसल जलकर राख हो गई। किसान परिवारों ने बताया कि उनके खेतों में गेहूं पककर तैयार हो चुकी थी। एक दो दिन में कटाई का काम शुरू करना था लेकिन शुक्रवार को अचानक लगी आग में किसान परिवारों की मेहनत को जलाकर राख कर दिया। किसानों ने गेहूं की फसल जल जाने के बाद तुंरत मुआवजे की मांग की है।


Next Story