Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Covid-19 के डर से भिवानी में रविवार को बंद रहेंगी किताबों व स्टेशनरी की दुकानें

एसोसिएशन ने यह फैसला दुकानदारों तथा परिवारों के स्वास्थ्य को ध्यान में देखते हुए लिया है। अब शहरवासी तथा अन्य लोग जो किताबें तथा स्टेशनरी का सामान खरीदना चाहते हैं वो रविवार को न जाए क्योंकि रविवार को दुकानें बंद रखी जाएगी।

Covid-19 के डर से भिवानी में रविवार को बंद रहेंगी किताबों व स्टेशनरी की दुकानें
X
फाइल फोटो 

हरिभूमि न्यूज : भिवानी

बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण का डर अब दुकानदारों को भी सताने लगा है। इसके तहत भिवानी, बुकसेलर एंड स्टेशनर्स एसोसिएशन ने रविवार को किताबों व स्टेशनरी की दुकानों को बंद रखने का फैसला लिया है। इसके तहत कोई भी किताबों व स्टेशनरी की दुकानें रविवार को नहीं खोली जाएगी।

एसोसिएशन ने यह फैसला दुकानदारों तथा परिवारों के स्वास्थ्य को ध्यान में देखते हुए लिया है। एसोसिएशन की एक बैठक पहले भी हुई थी जिसमें इस बारे में विचार विमर्श किया गया था तथा शनिवार को फिर से हुई बैठक में फैसले पर सर्व सम्मति से मोहर लगाई गई। अब शहरवासी तथा अन्य लोग जो किताबें तथा स्टेशनरी का सामान खरीदना चाहते हैं वो रविवार को न जाए क्योंकि रविवार को दुकानें बंद रखी जाएगी।

कुछ दिन पहले बुकसेलर एंड स्टेशनर्स एसोसिएशन की जनरल बॉडी की मीटिंग हुई थी। जिसमे सभी सदस्यों की सहमति और बहुमत से एसोसिएशन के कुछ नियम बनाए थे। जिसमें सभी दुकानदारों के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए साप्ताहिक अवकाश के रूप में रविवार को दुकान बंद रखने का फैसला लिया। एसोसिएशन के के सचिव मनीष गुरेजा ने बताया कि 76 में से 7 दुकानदारों ने साप्ताहिक अवकाश रविवार के बंद करने के निर्णय पर दोबारा विचार करने के लिए एसोसिएशन को लिखित पत्र दिया था। इस पर शनिवार को एसोसिएशन की कार्यकारिणी ने पुन: समीक्षा की।

बैठक में बहुमत के साथ यह फैसला लिया कि कोविड 19 के बढ़ते प्रभाव को कम करने के लिए सभी दुकानदारों को सप्ताह में कम से कम एक दिन का आराम करना चाहिए। रोजाना दुकानों के बंद करने का समय भी निर्धारित किया गया। सर्दियों में रात्रि 8.00 बजे व गर्मियों में 8.30 बजे किताबों व स्टेशनरी की दुकानें बंद हो जाएगी। प्रधान अमित बंसल ने बताया कि हम अन्य व्यापारिक एसोसिएशन और प्रशासन से मिलकर अनुरोध करेंगे कि वो भी सप्ताहिक अवकाश घोषित करें जिससे सभी व्यापारी और उनके यहां काम करने वाले कर्मचारियों को भी एक दिन का आराम मिल सके।

Next Story