Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सुहाना होगा सफर : हरियाणा के इस शहर में हाईवे पर बनेंगे बड़े रास्ते, करोड़ों का टेंडर जारी

राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने यहां 2 बड़े पुल बनाने के लिए टेंडर जारी कर दिया है। राष्ट्रीय राजमार्ग पर बनने वाले इन दोनों पुलों पर करीब 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे। कार्य का जिम्मा लेने वाली कंपनी को यह कार्य 12 माह में पूरा करना होगा।

सुहाना होगा सफर : हरियाणा के इस शहर में हाईवे पर बनेंगे बड़े रास्ते, करोड़ों का टेंडर जारी
X

कालका-जीरकपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर प्रस्तावित पुलों का मानचित्र।

हरियाणा के पंचकूला शहर के बीच से निकलते कालका-जीरकपुर राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों तरफ का आवागमन सुगम होने जा रहा है। विधानसभा अध्यक्ष एवं पंचकूला के विधायक ज्ञानचंद गुप्ता के अथक प्रयासों से राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने यहां 2 बड़े पुल बनाने के लिए टेंडर जारी कर दिया है। राष्ट्रीय राजमार्ग पर बनने वाले इन दोनों पुलों पर करीब 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे। कार्य का जिम्मा लेने वाली कंपनी को यह कार्य 12 माह में पूरा करना होगा। कंपनी को 10 साल तक इस प्रोजेक्ट का रखरखाव भी करना होगा। इसके अलावा सेक्टर 12ए और इंडस्ट्रियल एरिया वाले प्वाइंट पर भी एक पुल बनेगा। उसके लिए अलग से टेंडर जारी किया जाएगा।

सेक्टर 20, 21, 12 और 12 ए समेत कई सेक्टरों के लोगों को हाईवे के आरपार जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। सेक्टर 20 और 21 के सामने ट्रैफिक जाम की समस्या दिनोंदिन गहराती जा रही है। विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता गत 7 वर्षों से इस समस्या का निराकरण करने के लिए प्रयासरत हैं। इसके लिए वे अनेक बार केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी से मुलाकात कर चुके हैं। इस मसले को लेकर वे कई बार पत्र भी लिख चुके हैं। गत दिनों विस अध्यक्ष ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के सम्मुख भी यह मांग रखी थी। उनकी मांग पर मुख्यमंत्री ने मई माह में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के सोनीपत दौरे के दौरान यह मामला रखा।

विधान सभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि कालका-जीरकपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर सेक्टर 20 और 21 के टी-प्वाइंट पर 60 मीटर चौड़ा रास्ता बनाया जाएगा। ऐसा ही एक रास्ता सेक्टर 12 और 12ए की सड़क से हाईवे पर बनने वाले टी-प्वाइंट पर बनेगा। दोनों पुलों पर करीब 50 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इससे शहरवासियों को सुबह-शाम लगने वाले ट्रैफिक जाम से निजात मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2009 में कालका-जीरकपुर राष्ट्रीय राजमार्ग को चौड़ा किया गया था। लेकिन उस समय यह कार्य ठीक योजना से नहीं किया गया, जिसका परिणाम यह रहा कि लोगों को लाभ मिलने की बजाय की उल्टे समस्या बढ़ गई। गत 7 वर्षों से वे इस समस्या के निराकरण के लिए प्रयासरत हैं।

और पढ़ें
Next Story