Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा में लॉकडाउन को लेकर बड़ी खबर, अफवाहों में नहीं आएं मजदूर

गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज (Home and Health Minister Anil Vij) ने मजदूरों से अफवाहों में नहीं आने की अपील करते हुए साफ कर दिया है कि प्रदेशभर में लाकडाउन का कोई भी इरादा नहीं है। बढ़ते संक्रमण व मरीजों की संख्या को देखते हुए केवल रात्रि कर्फ्यू (Night Curfew) लगाया गया है, जिसका सभी को पालन करना चाहिए, इसमें लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री अनिल विज
X
स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री अनिल विज

Haribhoomi News : हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने मजदूरों से अफवाहों में नहीं आने की अपील करते हुए साफ कर दिया है कि प्रदेशभर में लाकडाउन का कोई भी इरादा नहीं है। बढ़ते काेरोना संक्रमण व मरीजों की संख्या को देखते हुए केवल रात्रि कर्फ्यू लगाया गया है, जिसका सभी को पालन करना चाहिए, इसमें लापरवाही नहीं होनी चाहिए। उन्होंने रात में समय बढ़ाए जाने को लेकर अपनी असहमति जाहिर कर दी थी लेकिन सीएम ने इसमें रद्दोबदल कर इसे दस बजे से कर दिया है। विज ने स्वीकार किया कि पहले ही दिन से समय को बढ़ाने के लिए उन पर कई तरह की दबाव बन रहे हैं लेकिन उनकी राय में तो रात्रि नौ बजे से लेकर सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू का टाइम पूरी तरह से ठीक था। लेकिन मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने वक्त में कोई राहत दी है, तो ठीक है।

सूत्रों का कहना है कि रात में नौ बजे से रात्रि कर्फ्यू के टाइम को लेकर एक खास लाबी द्वारा दबाव पहले ही दिन से बढ़ाया जा रहा था। इस संबंध में गृह एवं सेहत मंत्री अनिल विज से भी कईं अफसरों ने भी बातचीत की थी लेकिन विज इस वक्त को बदलने के हक में नहीं थे। उसके बाद भी उन्होंने सीएम हरियाणा को साफ कर दिया था कि वे चाहें, तो वक्त बढा दें। उनका कहना है कि महामारी के प्रसार को रोकने के लिए हमने यह कदम उठाया है। कारखाने और व्यापारिक प्रतिष्ठानों के संचालन को लेकर किसी भी तरह की कोई रोक नहीं हैं। लेकिन श्रमिकों को अब बदले हुए समय दस बजे से पहले अपनी फैक्ट्री अथवा प्रतिष्ठा पर जरूर पहुंचाना होगा।

गैर जरूरी आवाजाही पर रोक

कर्फ्यू के दौरान गैर जरूरी आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। इंटर स्टेट वाहनों के संचालन पर कोई राेक नहीं है। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस की नेत्री सैलजा द्वारा पत्र लिखकर राज्य में कोरोना वैक्सीन की डोज की कमी होने के सवाल को एक सियासी तीर बताया व कहा कि बिना किसी तैयारी व तथ्यों के इस तरह की बातें करना ठीक नहीं है, महामारी का दौर राजनीति करने के लिए नही हैं।

Next Story