Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मौत से जीती जंग : पेट से आर-पार हो गए थे 40 फीट के सरिये, पांच घंटे सर्जरी कर डॉक्टरों ने बचाई जान

युवक के पेट में जो शरीर घुसे हुए थे उनकी लंबाई करीबन 40 फीट थी। ग्रामीणों ने उन सरियों को मौके पर ही काट दिया। जबकि बाकी सरिए युवक के पेट में ही थे। उसे पीजीआई में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने रात को ही मशीन से काटकर उसकी जान बचाने का प्रयास किया। रात भर उसे डॉक्टर की निगरानी में रखा गया। जिसके बाद उसके पेट में घुसे हुए 2 सरियों को बाहर निकाला गया।

मौत से जीती जंग :  पेट से आर-पार हो गए थे 40 फीट के सरिये, पांच घंटे सर्जरी कर डॉक्टरों ने बचाई जान
X

ऑपरेशन से पहले कर्ण की हालत, ऑपरेशन थिएटर में उपचाराधीन कर्ण की तबीयत जांचते पीजीआई के चिकित्सक। 

हरिभूमि न्यूज : रोहतक

रोहतक पीजीआईएमएस के डॉक्टरों ने एक यूनिक सर्जरी कर युवक की जान बचाई। करीबन 5 घंटे तक चले जटिल ऑपरेशन के बाद युवक के शरीर से सरिए के दो टुकड़े निकाले गए। जिसके बाद युवक का उपचार चल रहा है। घायल के परिजनों ने डॉक्टरों की टीम का आभार जताया है।

गन्नौर के पास जुगाड़ की बाइक पर सरिया लादकर ले जा रहे एक चालक ने बाइक सवार 15 वर्षीय कर्ण को टक्कर मार दी थी। हादसा इतना भयंकर था कि दो सरिए युवक कर्ण के पेट के आर-पार निकल गए थे। हादसे के बाद उनके परिजन मौके पर पहुंचे। युवक के पेट में जो शरीर घुसे हुए थे उनकी लंबाई करीबन 40 फीट थी। ग्रामीणों ने उन सरियों को मौके पर ही काट दिया। जबकि बाकी सरिए युवक के पेट में ही थे। उसे पीजीआई में भर्ती कराया गया। जहां डॉक्टरों ने रात को ही मशीन से काटकर उसकी जान बचाने का प्रयास किया। रात भर उसे डॉक्टर की निगरानी में रखा गया। जिसके बाद उसके पेट में घुसे हुए 2 सरियों को बाहर निकाला गया। कई डॉक्टर की टीम ने 5 घंटे तक ऑपरेशन किया, जिसमें उनको कामयाबी मिली।


कर्ण के पेट से सरिया निकालने के बाद उसे स्पेशल वार्ड में भर्ती किया गया। जहां पर उसका उपचार चल रहा है। पीजीआईएमएस के अधिकारियों ने भी चिकित्सकों को शाबाशी दी है।घायल कर्ण के परिजनों ने डॉक्टरों का आभार जताया है। गौरतलब है कि इससे पहले भी पीजीआईएमएस के चिकित्सक ऐसे जटिल मामलों में सफल ऑपरेशन करके पीछे का नाम रोशन कर चुके हैं।

Next Story