Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डीएपी किल्लत से गुस्साए किसानों ने हरियाणा-पंजाब स्टेट हाईवे किया जाम, 5 घंटे बाद खोला

तहसीलदार विजय मोहन सियाल व कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा मंगलवार को रतिया क्षेत्र में डीएपी के 5000 बैग वितरित करने का लिखित आश्वासन देने के बाद किसानों ने जाम खोला। साथ ही चेतावनी दी कि अगर मंगलवार को भी किसानों को डीएपी न दी गई तो वह रतिया में अनिश्चितकालीन जाम लगा दें

डीएपी किल्लत से गुस्साए किसानों ने हरियाणा-पंजाब स्टेट हाईवे किया जाम, 5 घंटे बाद खोला
X

 रतिया : स्टेट हाईवे पर धरना देकर नारेबाजी करते हुए किसान।

हरिभूमि न्यूज : रतिया (फतेहाबाद)

रतिया क्षेत्र में डीएपी की समस्या से गुस्साए सैकड़ों किसानों ने शनिवार को रतिया के शहीद भगत सिंह चौक व संजय गांधी चौक पर जाम लगा दिया। इस कारण हरियाणा-पंजाब को जोड़ने वाले स्टेट हाईवे सहित रतिया-फतेहाबाद व रतिया-टोहाना रोड पर जाम में सैकड़ों वाहन फंस गए। गुस्साए किसानों ने हरियाणा सरकार व कृषि विभाग के अधिकारियों के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की। हालांकि जाम के दौरान कृषि विभाग के अधिकारी व पुलिस के अधिकारी कई घंटों तक किसानों से जाम खोलने के लिए आह्वान करते रहे लेकिन 5 घंटे तक किसानों ने जाम नहीं खोला।

तहसीलदार विजय मोहन सियाल व कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा मंगलवार को रतिया क्षेत्र में डीएपी के 5000 बैग वितरित करने का लिखित आश्वासन देने के बाद किसानों ने जाम खोला। साथ ही चेतावनी दी कि अगर मंगलवार को भी किसानों को डीएपी न दी गई तो वह रतिया में अनिश्चितकालीन जाम लगा देंगे। आज किसानों द्वारा लगाए गए जाम से प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए और प्रशासनिक अधिकारी बार-बार किसानों से जाम खोलने की अपील करते रहे। इस दौरान खंड कृषि अधिकारी द्वारा एक बार भड़काऊ भाषण देने के बाद स्थिति बिगड़ भी गई लेकिन पुलिस अधिकारियों ने मौके को संभाल लिया।

मिली जानकारी के अनुसार शनिवार सुबह क्षेत्र के सैकड़ों किसान डीएपी लेने के लिए अनाज मंडी रोड पर मौजूद एक दुकान पर पहुंच गए लेकिन 3 घंटे इंतजार करने के बाद भी उक्त दुकानदार के पास डीएपी नहीं आई और दुकानदार ने किसानों को बता दिया कि आज डीएपी का रैक नहीं लगा है। डीएपी न मिलने से किसानों में भारी रोष पैदा हो गया और सैकड़ों की संख्या में किसान भगत सिंह चौक व संजय गांधी चौक पर पहुंच गए और उन्होंने रोड के बीचों-बीच ट्रैक्टर ट्राली को खड़ा कर जाम लगा दिया, जिससे वाहनों की लंबी लाइनें लग गई। किसानों ने बाद में इसकी सूचना किसान नेताओं को भी दी जिस पर किसान संघर्ष समिति के नेता मनदीप सिंह, सुखदीप सिंह, राम जाट, निर्भय सिंह, परमजीत सिंह, अमन सिंह, पूर्व जिला पार्षद रामचंद्र, गुरपयार सिंह व अन्य किसान नेता मौके पर पहुंच गए और संजय गांधी चौक पर धरने पर बैठ कर जाम लगा दिया।

जाम की सूचना मिलते ही सिटी थाना अध्यक्ष रुपेश चौधरी, सदर थाना अध्यक्ष हरफूल सिंह, जिला ट्रेफिक इंचार्ज रवीश कुमार, डीएसपी गीतिका जाखड़ मौके पर पहुंच गए और उन्होंने किसानों से बातचीत शुरू कर जाम खुलवाने की कोशिश की लेकिन किसान कृषि विभाग के अधिकारियों व अन्य उच्च अधिकारियों को मौके पर बुलाने के लिए अड़ गए। इस पर पुलिस ने जिले के उच्च अधिकारियों को सूचित कर दिया लेकिन डेढ़ घंटे तक कृषि विभाग का कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा जिससे किसानों में रोष बढ़ गया। इस दौरान तहसीलदार विजय मोहन सियाल व उपनिदेशक राजेश सिहाग ने मौके पर पहुंचकर किसानों को लिखित में आश्वासन दिया कि मंगलवार को 5000 बैग डीएपी रतिया के किसानों को बांट दी जाएगी। इसके बाद किसानों ने जाम खोला। तहसीलदार ने मंगलवार को डीएपी वितरित करने के लिए एक कमेटी का गठन कर दिया जिसमें कृषि विभाग के कर्मचारियों के अलावा किसान संगठनों के प्रतिनिधि व प्रशासनिक कर्मचारियों को भी शामिल किया गया है और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों की देखरेख में ही डीपी वितरित की जाएगी।


रतिया : स्टेट हाईवे पर धरना देकर बैठे किसानों से बातचीत करते तहसीलदार।

Next Story