Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Agriculture Budget 2022-23 : कृषि सेक्टर के लिए सरकार का बूस्टर डोज, MSP के लिए 2.37 लाख करोड़ रुपये

सरकार ने कृषि उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए खास प्रावधान किए हैं। बजट में किसानों और गांव पर विशेष ध्यान दिया गया है।

Agriculture Budget 2022-23 : कृषि सेक्टर के लिए सरकार का बूस्टर डोज, MSP के लिए 2.37 लाख करोड़ रुपये
X

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

Agriculture Budget : कोरोना की तीसरी लहर के बीच सरकार द्वारा पेश किए गए आम बजट में कृषि (Agriculture) को बूस्टर डोज देने का प्रयास किया गया है। बजट में किसानों और गांव (Farmers and villages) पर विशेष ध्यान दिया गया है। मोदी सरकार ने कृषि उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए खास प्रावधान किए हैं। पिछले साल के मुकाबले बजट में इजाफा किया गया है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने अनेक योजनाओं की घोषषा की है। बजट में किसानों के लिए एमएसपी (MSP) का खास प्रावधान किया गया है सरकार ने इस साल इसके लिए 2.37 लाख करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है, वहीं 2022-23 को 'अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष' के रूप में मनाने की घोषणा की। सिंचाई की तकनीक को बढ़ाने के लिए भी जोर दिया गया है। 2022-23 में 3.8 करोड़ घरों में नल से जल पहुंचाने के लिए 60 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

4,605 करोड़ रुपये की लागत से केन बेतवा नदी जोड़ो परियोजना को लागू होगी

संसद में आम बजट 2022-23 पेश करते हुए सीतारमण ने बताया कि 44,605 करोड़ रूपये की लागत से केन बेतवा नदी जोड़ो परियोजना को लागू किया जाएगा । उन्होंने बताया कि इस योजना का उद्देश्य 9.08 लाख हेक्टेयर कृषि भूमि में सिंचाई सुविधा उपलब्ध करना, 62 लाख लोगों को पेयजल की आपूर्ति सुनिश्चित करना, 103 मेगावाट जल विद्युत और 27 मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पन्न करना है। इस परियोजना के लिये संशोधित अनुमान वर्ष 2021-22 में 4300 करोड़ रूपये रहा तथा वित्त वर्ष 2022-23 में 1400 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है।उन्होंने यह भी कहा कि पांच नदी जोड़ो परियोजना..दमनगंगा-पिंजाल, पार-तापी-नर्मदा, गोदावरी-कृष्णा, कृष्णा-पेनन्नार और पेन्नार-कावेरी का मसौदा विस्तृत परियोजना रिपोर्ट को अंतिम रूप से तैयार कर लिया गया है। सीतारमण ने कहा कि हर घर नल से जल योजना के तहत 2022-23 में 3.8 करोड़ घरों को कवर करने के लिए 60 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

बता दें कि वित्त वर्ष 2021-2022 में कृषि क्षेत्र के लिए 16.5 लाख करोड़ का ऐलान किया था। इस बार भी किसानों की आय बढ़ाने पर जोर दिया गया।

कृषि क्षेत्र के लिए ये घोषषाएं

< आर्गेनिेक खेती पर सरकार का जोर।

< किसानोंं को डिजिटल सर्विस देंगे।

< गंगा नदी के किनारे किसानों की जमीन पर आर्गेनिेक खेती को बढ़ावा दिया जाएगा।

< एमएमसी पर किसानों की फसल की रिकार्ड खरीद की जाएगी।

< सिंचाई और पेयजज सुविधा पर जोर।

< नदियों को आपस में जोड़ा जाएगा।

< किसानों के लिए कई स्कीम लाई जाएगी इसमें कई फसलों को भी शामिल किया जाएगा।

< 2023 मोटा अनाज वर्ष घोषित किया गया है। सरकार खेती को बढ़ावा देने के लिए सुविधाएं देंगी।

< हर घर नल योजना का इस साल भी विस्तार किया गया।

< किसानों को कृषि वानिकी से जोड़ने के लिए सरकार योजनाएं लाई जाएंगी।

< कीटनाशकों और पोषक तत्वों के छिड़काव के लिए ड्रोन के उपयोग को बढ़ावा दिया जाएगा।

< फसल का मूल्यांकन करने लिए भूमि अभिलेखों के डिजिटलीकरण होगा।

< छोटे किसानों और छोटे व मध्यम उद्यमों के लिए रेलवे नए प्रोडक्ट और कुशल लॉजिस्टिक सर्विस तैयार करेगा।

और पढ़ें
Next Story