Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आखिर क्यों दस माह तक घर की चारदीवारी में कैद रहे डॉ. कुलदीप ढींडसा

प्रधानमंत्री के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए कोरोना काल में उन्होंने अपनी सभी गतिविधियों को अपने निवास तक सीमित रखा तथा कोरोना के संक्रमण से पूर्णतः बचे रहे।

आखिर क्यों दस माह तक घर की चारदीवारी में कैद रहे डॉ. कुलदीप ढींडसा
X

डॉ. कुलदीप सिंह ढींडसा।

कुरुक्षेत्र। यह भी शायद अपने आप में एक रिकॉर्ड होगा कि कोई व्यक्ति कोरोना से आत्मरक्षा के लिए 315 दिनों से घर की चारदीवारी से बाहर न निकले हो। यह उदहारण पेश किया है अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक व जेसीडी विद्यापीठ सिरसा के पूर्व महानिदेशक डॉ. कुलदीप सिंह ढींडसा ने। प्रधानमंत्री के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए कोरोना काल में उन्होंने अपनी सभी गतिविधियों को अपने निवास तक सीमित रखा तथा कोरोना के संक्रमण से पूर्णतः बचे रहे। सुबह व शाम की सैर और व्यायाम भी अपने घर के प्रांगण में की। शैक्षिणिक गतिविधियां व मीटिंग गूगल एप्प द्वारा ऑनलाइन जारी रखी। 24 मार्च 2020 के बाद आज पहली बार वे अपनी कोठी से बाहर आये तथा कुछ देर बाहर सैर की और मित्रों से मिले।

एकांतवास के अनुभवों को सांझा करते हुए डॉ. कुलदीप ढींडसा ने कहा कि यह भी अलग तरह का पर लाभदायक समय रहा। इस दौर में मुझे आत्म निरीक्षण व पूजा पाठ, हवन के लिए भरपूर समय मिला। इस दौरान में अधिक तन्मयता से अपने विषय रसायन विज्ञान के मूल सिद्धांतों को और अधिक गहराई और सूक्ष्मता से समझ सका और नए -नए अनुसन्धान विचारों ने जन्म लिया। डॉ. ढींडसा ने कहा कि वह आने वाले राष्ट्रीय विज्ञान सेमिनारो में इन विचारों को वैज्ञानिकों के साथ सांझा करेंगे।

Next Story