Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोहरे के कारण हादसा : बस और ट्रैक्टर की टक्कर में पंजाब के दो आंदोलनकारी किसानों की मौत, दो घायल

पंजाब के बठिंडा जिले के गांव घुद्दा के रहने वाले कुछ किसान टीकरी बार्डर पर आंदोलन में आए हुए थे। बुधवार की सुबह वे गांव जा रहे थे तो रास्ते में हादसा हो गया।

कोहरे के कारण हादसा : बस और ट्रैक्टर की टक्कर में पंजाब के दो आंदोलनकारी किसानों की मौत, दो घायल
X

नागरिक अस्पताल में मृतक के परिचितों के बयान लेती पुलिस और इनसेट में क्षतिग्रस्त बस।

हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़

कृषि कानूनों को रद्द कराने के लिए चल रहे संघर्ष में किसानाें की मौतों का सिलसिला भी नहीं थम रहा। कभी बीमारी तो कभी दुर्घटना में आए दिन कोई न कोई किसान अपनी जान गंवा रहा है। बुधवार की सुबह भी रोहतक-दिल्ली रोड पर हुई बस व ट्रैक्टर-ट्रॉली की टक्कर में दो किसानाें की जान चली गई। दो अन्य किसान भी घायल हुए हैं, जबकि बस चालक उपचारधीन हैं। घने कोहरे के कारण यह हादसा हुआ। आसौदा थाना पुलिस ने इस संबंध में बस चालक के खिलाफ केस दर्ज किया है।

दरअसल, पंजाब के बठिंडा जिले के गांव घुद्दा के रहने वाले कुछ किसान टीकरी बार्डर पर चल रहे आंदोलन में आए हुए हैं। अपने घरेलू काम-काज संभालने के लिए बीच-बीच में ये गांव भी चले जाते हैं। इन्हीं में से एक किसान रेशम सिंह को भी अपना कोई घरेलू काम था। इसलिए बुधवार की सुबह वह गांव के लिए चल दिया। वह ट्रैक्टर चला रहा था और पीछे ट्रॉली में गुरदास, अजायब सिंह, रामकुमार, जगमेर और तरसेम सिंह आदि सवार थे। चूंकि धुंध बेहद ज्यादा थी तो ट्रैक्टर की गति धीमी थी। सुबह करीब सात बजे जब ये बाईपास से कुछ दूर आगे पहुंचे तो पीछे से आ रही एक निजी बस इनकी ट्रॉली से टकरा गई। टक्कर काफी भीषण थी। इस वजह से ट्रॉली में सवार करीब 62 वर्षीय अजायब सिंह व 60 वर्षीय गुरदास सिंह उछलकर बाहर गिर गए। दोनों वाहनों के बीच में आने के कारण उन्हें काफी चोट आई। वहीं रामकुमार की कमर में तो चालक रेशम सिंह के पांव सहित अन्य हिस्सों में चोट आई। खुद बस चालक भी बुरी तरह से जख्मी हो गया। आसपास ठहरे अन्य आंदोलनकारी किसानों ने इनको संभाला और नागरिक अस्पताल में ले गए। यहां गुरदास सिंह और अजायब सिंह को मृत घोषित कर दिया गया। जबकि रामकुमार व रेशम सिंह को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी मिल गई।

हादसे की सूचना मिलते ही आसौदा थाने से पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों वाहनों को सड़क से हटाकर यातायात सुचारू कराया। दोपहर बाद पोस्टमार्टम कराने के बाद शव सौंप दिए गए। चालक भी पीजीआई रोहतक में भर्ती बताया जा रहा है। घायल रेशम सिंह ने बताया कि गुरदास सिंह और अजायब सिंह पेशे से किसान थे। सप्ताहभर पहले ही आंदोलन में आए थे। कुछ निजी काम के चलते हम कुछ दिनों के लिए वापस जा रहे थे और बीच रास्ते में यह हादसा हो गया। बस काफी गति में थी। चालक की लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ। ये तो हमारी ट्रॉली हेवी थी, अगर नॉर्मल होती तो जानें और जा सकती थी।

Next Story