Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अभय सिंह चौटाला बोले, किसानों के मसीहा चौधरी देवीलाल आजीवन उनके हकों के लिए लड़ते रहे

अभय चौटाला ने यमुनानगर में सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ चौधरी देवी लाल की मूर्ति पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। उन्होंने कहा कि जननायक देवी लाल किसानों के मसीहा थे जिन्होंने किसानों के हकों के लिए हमेशा त्याग किया(

अभय सिंह चौटाला बोले, किसानों के मसीहा चौधरी देवीलाल आजीवन उनके हकों के लिए लड़ते रहे
X

यमुनानगर: इनेलो ने पूर्व उप प्रधानमंत्री जननायक चौधरी देवी लाल का 107वां जन्म दिवस प्रदेश के सभी जिलों में श्रद्धा व हर्ष के साथ धूमधाम से मनाया। इनेलो सुप्रीमो औम प्रकाश चौटाला ने गांव चौटाला में हजारों कार्यकर्ताओं के साथ जननायक की प्रतिमा पर श्रद्धासुमन अर्पित किए और अपने संबोधन में कहा कि चौधरी देवी लाल एक व्यक्ति नहीं बल्कि संस्था थे। इंडियन नेशनल लोकदल पार्टी चौधरी देवी लाल का लगाया हुआ पौधा है जो उनकी नीतियों को आगे बढाने का काम कर रही है। इस अवसर पर एक संगोष्ठी का भी आयोजन किया गया जिसमें अलग-अलग क्षेत्रों से आए बुद्धिजीवियों ने हिस्सा लिया और चौधरी देवी लाल के राजनीतिक एवं सामाजिक जीवन पर चर्चा का उन्हें याद किया।

इनेलो के प्रधान महासचिव एवं विधायक अभय चौटाला ने यमुनानगर में सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ चौधरी देवी लाल की मूर्ति पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि जननायक देवी लाल किसानों के मसीहा थे जिन्होंने किसानों के हकों के लिए हमेशा त्याग किया और किसानों की भलाई के लिए देश व प्रदेश के उप प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री रहते हुए बहुत सारे कार्य किए जिसमें फसलों के उचित भाव सुनिश्चित किए, खराब फसल का मुआवजा देने की पहल की, ट्रैक्टर को गड्डे की श्रेणी में डलवाया, गांवों में हरिजन चौपाल बनवाई, किसानों व मजदूरों के 10 हजार रुपए तक के कर्जे माफ किए, बुढ़ापा सम्मान पेंशन की शुरुआत की, बेरोजगार युवकों को बेरोजगारी भत्ता, काम के बदले अनाज की योजना जैसे अनेकों जन भलाई के कार्यों की शुरूआत की जिसका लाभ आने वाली कई पीढिय़ों को मिलता रहेगा।

इनेलो नेता ने 25 सितंबर को किसान सगंठनों द्वारा कृषि बिलों के खिलाफ भारत बंद का पूर्ण रूप से समर्थन किया। उन्होंने कहा कि किसानों द्वारा किए गए भारत बंद को सफल बनाने के लिएएक दिन पहले ही इनेलो के प्रदेश के सभी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को बंद में हिस्सा लेने के लिए सूचना दे दी गई थी। देश के लोगों का पेट भरने के लिए अन्नदाता कितनी तकलीफ उठाता है इसका अंदाजा न तो केंद्र की सरकार को है और न ही हरियाणा प्रदेश की सरकार को।

Next Story