Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

युवक का अपहरण कर लाखों की फिरौती मांगने वाले 4 बदमाशों को मुठभेड़ के बाद ऐसे किया काबू, दाे के पैर में लगी गोलीे

आरोपियों की पहचान नीरज उर्फ बाबा निवासी भारत नगर, सौरभ निवासी सैनी कालोनी पानीपत व अंकुर निवासी दौलरा टिटावी मुज्जफरनगर यूपी के रूप में हुई है।

युवक का अपहरण कर लाखों की फिरौती मांगने वाले 4 बदमाशों को मुठभेड़ के बाद ऐसे किया काबू, दाे के पैर में लगी गोलीे
X

पुलिस की गोली लगने से घायल बदमाश। 

पानीपत। पानीपत के निकटवर्ती गांव मोहाली-राजाखेडी मार्ग पर सोमवार के तडके नीरज निवासी सैनी कालोनी, पानीपत के अपहरणकर्ताओं व पानीपत पुलिस की सीआईए-वन की टीम के बीच मुठभेड हो गई। दोनों ओर से हुई फायरिंग में दो अपहरणकर्ताओं नीरज उर्फ बाबा पुत्र बिशनपाल निवासी भारत नगर व सौरभ पुत्र अशोक निवासी सैनी कालोनी पानीपत के पैरों में गोलियां लगी। पुलिस ने जहां अपहृत नीरज को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से सकुशल बरामद किया। पुलिस ने अपहृत नीरज के पास से अपहरणकर्ताओं के साथी प्रवीण को गिरफ्तार किया है।

जबकि अपहरण में प्रयोग की गई बलेरो के चालक अंकुर पुत्र सोमपाल निवासी दौलरा तितावी, मुजफ्फरनगर, यूपी को भी गिरफ्तार किया। वहीं पुलिस ने मुठभेड में घायल हुए अपहरणकर्ताओं को सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां प्राथमिक उपचार देने के बाद दोनों घायल आरोपितों को बेहतर उपचार के लिए पीजीआई रोहतक रेफर कर दिया गया। पीजीआई में पुलिस कस्टडी में दोनों आरोपितों का उपचार चल रहा है। जबकि पुलिस ने आरोपितों से दो अवैध पिस्तौल व कारतूस बरामद किए है।

यह है मामला

थाना किला में 21 मई को आशीष पुत्र रतन लाल निवासी सैनी कालोनी ने शिकायत देकर आरोप लगाया था कि बलेरो में सवार चार/पांच लोगों ने उसके भाई नीरज का अपहरण कर लिया। नीरज की बबैल रोड पर किरयाना की दुकान है। आशीष की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात लोगों पर अपहरण के आरोप में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। इधर, पुलिस अधीक्षक शशांक सावन ने नीरज के अपहरण के केस को गंभीरता से लिया और इसकी जांच सीआईए-वन को सौंपी। वहीं आरोपितों ने किसी राहगिर का फोन छीना और अपहृत नीरज को छोडने की एवज में उसके भाई आशीष से 80 लाख रूपये की फिरौती मांगी। आरोपितों ने आशीष को फिरौती की रकम लेकर मोहाली-राजाखेडी रोड पर सोमवार के तकडे बुलाया था।

मुठभेड में दो आरोपितों को लगी गोलियां

अपहरणकर्ताओं की तलाश में सीआईए-वन की टीम इंस्पेक्टर राजपाल की कमान में पानीपत व यूपी के पानीपत से लगते जिलों में छापामारी कर रही थी। वहीं पुलिस को जब आशीष से फिरौती मांगे जाने व मोहाली-राजाखेडी रोड पर 80 लाख रूपये लाने की सूचना मिली तो सीआईए-वन की टीम इस क्षेत्र में पहुंच गई। यहां पर अपहरणकर्ताओं व पुलिस के बीच मुठभेड शुरू हो गई। दोनों ओर से हुई फायरिंग में सौरव व अंकुर के पैरों में गोलियां लगी। जबकि मुठभेड से पहले आरोपितों ने नीरज के हाथ व पैर बांध कर उसे खेत में रख रखा था और आरोपित प्रवीण को अपहृत की चौकसी पर लगा रखा था। पुलिस ने जहां नीरज को सकुशल बरामद किया, वहीं आरोपित प्रवीण को गिरफ्तार किया। अपहरण में प्रयोग की गई बलेरो के चालक अंकुर को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इधर, आरोपितों पर पुलिस टीम पर जानलेवा हमला करने का एक और मुकदमा थाना किला में आईपीसी की धारा 186, 307 व आर्म्स एक्ट के तहत दर्ज किया गया।

पुलिस अधीक्षक शशांक सावन ने बताया कि आरोपित, नीरज को जानते थे और उन्हें यह जानकारी थी कि नीरज, धनवान परिवार का है, इसका अपहरण करने से अच्छी खासी रकम उन्हें मिल जाएगी। वहीं अपहरण करने के बाद आरोपित नीरज को मेरठ जिला के कस्बे सरधना के जंगल में ले गए, यहां पर उसे रात भर रखा। उन्होंने बताया कि अपहरणकर्ता गिरोह का मास्टर मांइड आरोपी सौरभ पुरानी सब्जी मंडी के पास चाउमिन की रेहड़ी लगाता है। जबकि आरोपित नीरज उर्फ बाबा का पहले भी अपराधिक रिकार्ड है, इस पर तीन केस दर्ज है।

और पढ़ें
Next Story