Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सैनिक स्कूल के लिए महेंद्रगढ़ का दावा मजबूत, क्याेंकि यहां रहते हैं 32 हजार से अधिक सैनिक परिवार

हरियाणा में दो सैनिक स्कूल हैं, एक करनाल के कुंजपुरा में दूसरा रेवाड़ी में। तीसरा झज्जर के मातनहेल में निर्माणाधीन है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में देशभर में 100 से अधिक सैनिक स्कूल खोलने की घोषणा की है।

Schools Reopen: पुणे में 11 महीने बाद कक्षा 5 से 8 तक के लिए फिर से खुले स्कूल, छात्रों में दिखाई दिया उत्साह
X

सतीश सैनी : नारनौल

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में केंद्रीय बजट में देशभर में 100 से अधिक सैनिक स्कूल खोलने की घोषणा की है। महेंद्रगढ़ जिला में सैनिक स्कूल खोलने का दावा मजबूत है। उम्मीद का कारण है महेंद्रगढ़ में 32 हजार से ज्यादा सैनिक परिवार हैं। यहां सैनिक स्कूल खुलता है तो जिला में बच्चों को फायदा मिल सकता है। इस दावे को सत्ता पक्ष का प्रयास ओर मजबूत कर सकता है।

देश में इस समय 31 सैनिक स्कूल संचालित हैं। हरियाणा में दो सैनिक स्कूल हैं, एक करनाल के कुंजपुरा में दूसरा रेवाड़ी में। तीसरा झज्जर के मातनहेल में निर्माणाधीन है। पड़ोसी राजस्थान में चितौड़गढ़ और झुझनु में एक-एक सैनिक स्कूल है। बजट में की गई घोषणा के मुताबिक इन स्कूलों का संचालन एनजीओ के साथ मिलकर किया जाएगा। ऐसा होता है तो मौजूदा सिस्टम में बदलाव भी समय की डिमांड के हिसाब से हो सकते हैं। हालांकि 100 से अधिक सैनिक स्कूल कहां-कहां स्थापित किए जाएंगे, इसका बजट में जिक्र नहीं किया गया। महेंद्रगढ़ जिला में 32 हजार सैनिक परिवार हैं। ऐसे में जिले में सैनिक स्कूल का दावा किया जाता है।

महेंद्रगढ़ का दावा यूं मजबूत

महेंद्रगढ़ जिला का कुल क्षेत्रफल 1939.6 वर्ग किलोमीटर है। सैनिक बोर्ड के आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो 20 हजार 850 पूर्व सैनिक हैं। आर्मी के 20198, नेवी के 358 व एयरफोर्स के 294 से सेवानिवृत सैनिक हैं। हाल फिलहाल की बात करें तो जिले के 11 हजार 576 जवान अलग-अलग सेना में ड्यूटी दे रहे हैं। इस तरह जिले में 32 हजार 426 सैनिक परिवार हैं। यहीं नहीं, इस देश की रक्षा करते हुए जिला के 187 जवानों ने शहादत दी हुई है। अवार्ड की बात करें तो दो विक्टोरिया क्रॉस अवार्ड, दो मिल्ट्री क्रॉस, एक अशोक चक्र, दो कीर्ति चक्र, 10 वीर चक्र, 12 शौर्य चक्र, 45 सेना मैडल व दो नौसेना मेडल से यहां के जवानों को सम्मान मिला है। जिला के नारनौल व महेंद्रगढ़ शहर में एक-एक ईसीएचएस पॉलीक्लिनिक्स है। नारनौल, महेंद्रगढ़, कनीना व अटेली में सैनिक रेस्ट हाउस भी है। नारनौल शहर में जिला स्तरीय युद्ध स्मारक विश्रामगृह परिसर में साल-1995 में स्थापित किया गया था।

सम­झें...सैनिक स्कूल में प्रवेश व प्रशिक्षण

सीबीएससी बोर्ड आधारित सैनिक स्कूल 6वीं से 12वीं कक्षा तक होते हैं। पहले साल 80 सीटों पर प्रवेश होता है। एंटे्रंस एग्जाम के जरिए ही प्रवेश मिलता है। इस बार कुछ बदलाव किया गयाहै। अब एडमिशन के लिए परीक्षा एनटीए यानि नेशनल टेस्ट एजेंसी लेगी। मेडिकल भी होगा। उसके बाद ही इस स्कूल में प्रवेश मिलता है। सैनिक स्कूल में विद्यार्थियों को सेना की तरह ही तैयार किया जाता है। अनुशासन में पढ़ाई, खेलकूद सहित अन्य गतिविधियों में विद्यार्थी हिस्सा लेते हैं। हाल ही में 10 सीटें लड़कियों के लिए आरक्षित की गई है। अगर जिला में सैनिक स्कूल खुलता है तो लड़कियों को भी सेना में जाने का मौका मिलेगा।

सांसद बोले...मांग जायज, पूरजोर करेंगे प्रयास

महेंद्रगढ़-भिवानी लोकसभा क्षेत्र के सांसद चौधरी धर्मवीर ने कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 100 सैनिक स्कूल खोलने की घोषणा स्वागतयोग्य है। महेंद्रगढ़ जिला सैनिकों की खान है। वह संसद व रक्षा मंत्रालय में महेंद्रगढ़ जिला में सैनिक स्कूल खोलने की मांग करेंगे।

राज्यमंत्री बोले...हरियाणा को मिला सैनिक स्कूल तो महेंद्रगढ़ जिला पहला होगा हकदार

प्रदेश के सामाजिक न्याय-अधिकारिता मंत्री एवं नारनौल विधायक ओमप्रकाश यादव ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सैन्य सहित हर क्षेत्र में निरंतर आगे बढ़ रहा है। बजट में की गई घोषणा के हिसाब से देशभर में 100 सैनिक स्कूल खोले जाएंगे। हरियाणा के हिस्से में अगर एक भी सैनिक स्कूल आएगा तो महेंद्रगढ़ जिला ही उसका हकदार होगा।

Next Story