Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Video Viral: किसानों को रोकने के लिए गाजीपुर बॉर्डर पर किलों की जगह बदली गई, दिल्ली पुलिस ने दी जानकारी

Video Viral: दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने कहा कि ऐसी वीडियो और तस्वीरें प्रसारित हो रही हैं जिसमें यह दिखाया जा रहा है कि गाज़ीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) से कीलें हटाई जा रही हैं। कीलों की जगह बदली जा रही है। बॉर्डर पर तैयारियां पहले जैसी ही हैं।

Video Viral: किसानों को रोकने के लिए गाजीपुर बॉर्डर पर किलों की जगह बदली गई, दिल्ली पुलिस ने दी जानकारी
X

किसानों को रोकने के लिए गाजीपुर बॉर्डर पर किलों की जगह बदली गई

Video Viral नये कृषि कानूनों को लेकर केंद्र के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) 71 दिनों से चल रहा है। दिल्ली के बॉर्डरों (Delhi Border) पर किसान का हुजुम लगना जारी है। साथ ही उनका कहना है कि काला कानून वापस नहीं होगा तो घर वापसी भी नहीं होगी है। वहीं, केंद्र भी अपनी बात पर अड़ी हुई है। किसान दिल्ली में कूच न कर पाए इसलिए सीमाओं पर कड़ी सुरक्षा की गई है। 13 लेयर की बैरिकेडिंग समेत किले और कंटिले वायर लगाये गये है।

इसी बीच, दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने कहा कि ऐसी वीडियो और तस्वीरें प्रसारित हो रही हैं जिसमें यह दिखाया जा रहा है कि गाज़ीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) से कीलें हटाई जा रही हैं। कीलों की जगह बदली जा रही है। बॉर्डर पर तैयारियां पहले जैसी ही हैं। वहीं, सोशल मीडिया (Social Media) पर एक वीडिया वायरल हो रही है जिसमें एक आदमी किलों को निकालता दिखाई दे रहा है। ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। वीडियो को देख लोग तरह-तरह की प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

इससे पहले, दिल्ली पुलिस ने सामाजिक कार्यकर्ता योगिता भयाना को एक नोटिस भेजकर राष्ट्रीय राजधानी में 26 जनवरी को हिंसा को लेकर ट्विटर पर उनके फर्जी पोस्ट के संबंध में पूछताछ के लिए पेश होने को कहा है। भयाना ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस उनकी आवाज को दबाना चाहती है और कहा कि उनका गुनाह ये है कि वह आंदोलन में किसानों का साथ दे रही हैं।

उधर, दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के प्रदर्शन स्थल के पास अतिरिक्त सुरक्षाकर्मियों की तैनाती और कई जगह बैरिकेड लगाने के साथ सुरक्षा बढ़ा दी गयी है, जिससे राष्ट्रीय राजधानी की कई मुख्य सड़कों पर यातायात जाम हो गया। दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्विटर पर सीमाओं के बंद रहने और आने-जाने के लिए वैकल्पिक मार्गों के इस्तेमाल का सुझाव दिया है।

Next Story