Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पांच लाख रूपये कैश व डेढ़ करोड़ के जेवरात चुराने वाले आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

नई दिल्ली के नॉर्थ जिले के स्पेशल स्टाफ ने घर में हुई करोड़ों की चोरी की गुत्थी को सुलझा लिया है। पुलिस ने इस मामले में गैंग के मास्टरमांइड समेत सात लोगों को पकड़ा हैं। पकड़े गए आरोपियों में दो खरीददार भी शामिल हैं।

पांच लाख रूपये कैश व डेढ़ करोड़ के जेवरात चुराने वाले आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
X
आरोपी गिरफ्तार (प्रतीकात्मक फोटो)

नई दिल्ली के नॉर्थ जिले के स्पेशल स्टाफ ने घर में हुई करोड़ों की चोरी की गुत्थी को सुलझा लिया है। पुलिस ने इस मामले में गैंग के मास्टरमांइड समेत सात लोगों को पकड़ा हैं। पकड़े गए आरोपियों में दो खरीददार भी शामिल हैं। पकड़े गए आरोपियों के नाम जीशान अली, इकराम, आजाद अली, इरफान, मोहम्मद अकरम, रियाजउल हसन और मोबिन हैं।

आरोपी मोबिन गैंग का मास्टरमांइड है। पुलिस की माने तो चोरी की वारदात को अंजाम देने के बाद पुलिस से बचने के लिए मास्टरमाइंड मोबिन ने खुद को अन्य मामले में यूपी पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया था। जिसकी पुलिस ने केस में अधिकारिक तौर पर गिरफ्तारी डाली। पुलिस ने आरोपियों के पास से करीब सवा करोड़ कीमत की ज्वेलरी के अलावा अन्य सामान बरामद किया हैं। पुलिस आरोपियों से पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है।

डीसीपी (नॉर्थ) अंटो अल्फोंस ने बताया कि गत 22 नवंबर को अंकित गुप्ता नामक एक शख्स ने पुलिस को घर में चोरी की शिकायत दी। शिकायत में उसने बताया कि वह घर के बाहर था। इसी दौरान उसके पड़ोसी ने उसे घर के दरवाजे खुले होने की सूचना दी। सूचना मिलते ही वह घर पहुंच गया। उसने देखा कि घर के मेन गेट पर लगे ताले टूटे हुए है। इसके बाद वह घर की पहली मंजिल पर गया।

जांच करने पर उसे पता चला कि अलमारी से पांच लाख रुपए केश के अलावा करीब डेढ़ करोड़ कीमत की ज्वेलरी चोरी हुई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की। जांच की जिम्मा लोकल पुलिस के अलावा स्पेशल स्टाफ को भी सौंपा गया। जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि वारदात में आजाद, मोबिन, राजू, इकराम और जीशान का हाथ है।

इसके बाद पुलिस ने गुप्त सूचना के बाद गत 26 दिसंबर को जीशान अली, इकराम और आजाद अली को कमला नेहरु रिज के पास से दबोच लिया। इस दौरान आरोपी चोरी की गई ज्वेलरी बेचने जा रहे थे। बाद में पुलिस ने इनकी निशानदेही पर रियाजुल हसन और इरफान को भी दबोच लिया।

जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि गैंग का मास्टरमाइंड मोबिन डासना जेल में बंद है जिसने पिलखऊवा में हुई लूट के एक केस में 30 दिसंबर को सरेंडर कर दिया था। बाद में पुलिस ने कानूनी प्रक्रिया पूरी के तहत इस केस में मोबिन की गिरफ्तारी डाली। बाद में पुलिस ने मोहम्मद अकरम को पकड़ लिया।

Next Story