Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पुलिस अनुसंधान कार्यक्रम में बोले गृहमंत्री अमित शाह- कानून व्यवस्था ठीक नहीं तो लोकतंत्र कभी सफल नहीं हो सकता

नई दिल्ली में पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के 51वें स्थापना दिवस को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि गांवों में पहले भी पंच परमेश्वर हुआ करते थे। हजारों साल पहले गुजरात के द्वारका में यादवों का गणतंत्र था, बिहार में गणतंत्र रहा। इसलिए लोकतंत्र हमारे देश का स्वभाव रहा है। गृहमंत्री ने आगे कहा कि अगर क़ानून व्यवस्था ठीक नहीं है तो लोकतंत्र कभी सफल नहीं हो सकता है।

पुलिस अनुसंधान कार्यक्रम में बोले गृहमंत्री अमित शाह- कानून व्यवस्था ठीक नहीं तो लोकतंत्र कभी सफल नहीं हो सकता
X

पुलिस अनुसंधान कार्यक्रम में बोले गृहमंत्री अमित शाह

दिल्ली में पुलिस अनुसंधान और विकास ब्यूरो के 51वें स्थापना दिवस (Bureau Of Police Research And Development) पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah) मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए। इस दौरान अमित शाह ने कहा कि कोई भी संस्था हो, वह अपने क्षेत्र के अंदर 51 साल तक अपनी प्रासंगिकता को बना सकता है और बनाए रखता है तो उसका मतलब है उसके काम में प्रासंगिकता और दम दोनों हैं।

नई दिल्ली में पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के 51वें स्थापना दिवस को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि गांवों में पहले भी पंच परमेश्वर हुआ करते थे। हजारों साल पहले गुजरात के द्वारका में यादवों का गणतंत्र था, बिहार में गणतंत्र रहा। इसलिए लोकतंत्र हमारे देश का स्वभाव रहा है। दिल्ली में गृहमंत्री ने आगे कहा कि अगर क़ानून व्यवस्था ठीक नहीं है तो लोकतंत्र कभी सफल नहीं हो सकता है। क़ानून व्यवस्था को ठीक रखने का काम पुलिस करती है। पूरे सरकारी तंत्र में सबसे कठिन काम अगर किसी सरकारी कर्मचारी का है तो वह पुलिस के मित्रों का है।

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस समारोह में टोक्यो ओलंपिक में रजत पदक विजेता मीराबाई चानू को सम्मानित किया। मणिपुर सरकार ने मीराबाई चानू को पुलिस विभाग में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (खेल) के रूप में नियुक्त किया है। गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि लोकतंत्र हमारे देश का मूल स्वाभाव है। अगर कोई कहता है कि लोकतंत्र 15 अगस्त 1947 के बाद या 1950 में संविधान अपनाने के बाद आया है तो यह गलत है। लोकतंत्र हमारा मूल स्वभाव है।

Next Story