Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुंडका अग्निकांड में पुलिस प्रशासन की सामने आई बड़ी लापरवाही, पति ने महिला को अपनी पत्नी समझ कर दिया अंतिम संस्कार

राजधानी दिल्ली के मुंडका (Mundka) में लगी आग को एक महीने से ज्यादा का समय हो गया है। यहां इमारत में लगी भीषण आग में 27 लोगों की मौत (Dead Body) हो गई थी। जिसमें जान गवाने वाले लोगों के शव क्षत-विक्षत हो गए थे।

मुंडका अग्निकांड में पुलिस प्रशासन की सामने आई बड़ी लापरवाही, पति ने महिला को अपनी पत्नी समझ कर दिया अंतिम संस्कार
X

राजधानी दिल्ली के मुंडका (Mundka) में लगी आग को एक महीने से ज्यादा का समय हो गया है। यहां इमारत में लगी भीषण आग में 27 लोगों की मौत (Dead Body) हो गई थी। जिसमें जान गवाने वाले लोगों के शव क्षत-विक्षत हो गए थे। जिसके कारण एक महीने से भी ज्यादा समय से शवों की पहचान करने में पुलिस जुटी हुई है। इसी बीच एक शव की शिनाख्त करने में पुलिस और प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आई है।

वही पीड़ित पति ने आरोप लगाया है कि पुलिस और प्रशासन (Police and Administration) की लापरवाही के चलते उसने दूसरे की पत्नी के शव का अंतिम संस्कार कर दिया हैं। पीड़ित शख्स का नाम मनोज कुमार(Manoj Kumar) हैं। मनोज ने बताया कि उसकी पत्नी स्वीटी (Sweety) पिछले डेढ़ साल से मुंडका में हादसे वाले गोदाम में काम करती थी।

आगजनी की इस घटना में स्वीटी की मौत हो गई थी। पीड़ित पति ने पुलिस और प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि लापरवाही के कारण उसे पहले एक अन्य महिला का शव दिया गया, जिसके उसने अंतिम संस्कार(funeral) तक कर दिया है। उधर, डीएनए रिपोर्ट आने के बाद पीड़ित को पता चला है कि उसकी पत्नी का शव दूसरे को सौंप दिया गया है।

उन्होंने प्रशासन पर आरोप लगाया कि डीएनए रिपोर्ट आने के बाद ही सभी शव सौंपे जाने चाहिए थे। स्वीटी के परिजनों ने अब इस मामले में विशेष जांच की मांग की है। मनोज कुमार ने बताया कि आगजनी की घटना में मारी गई रंजू देवी के परिजनों से शव की अदला-बदली कर दी गई है। ऐसे में अब इस आग में पुलिस प्रशासन (Police and Administration) की जांच भी कटघरे में नजर आ रही है।

और पढ़ें
Next Story