Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑक्सीजन की आपूर्ति में भेदभाव का आरोप, धरने पर बैठे पार्षद साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज

एसीएम विनय कुमार द्वारा अस्पताल प्रबंधन को ऑक्सीजन की आपूति कराने के आश्वासन पर पार्षद ने अपना धरना खत्म किया। इंदिरापुरम शिप्रा सनसिटी निवासी पार्षद संजय सिंह अहिसा खंड दो स्थित शांति गोपाल अस्पताल पहुंचे। पार्षद ने बताया कि उनकी आंखों के सामने एक युवक की आक्सीजन न मिलने से मौत हो गई। युवक की पत्नी शव के पास बैठकर विलाप कर रही थी।

ऑक्सीजन की आपूर्ति में भेदभाव का आरोप, पार्षद घरने पर बैठे साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज
X

ऑक्सीजन 

दिल्ली-एनसीआर (Delhi NCR) में कोरोना मरीजों (Covid Patients) को ऑक्सीजन देने के नाम भेदभाव की खबर सामने आई है। ऐसा ही एक मामला गाजियाबाद के साहिबाबाद से आया है। यहां ऑक्सीजन (Oxygen) की आपूर्ति में भेदभाव का आरोप (Allegations of Discrimination) लगाया है। जिसे लेकर यहां के पार्षद संजय सिंह ने इंदिरापुरम स्थित शांति गोपाल अस्पताल के बाहर धरना दिया। एक कोविड मरीज की मौत को अपनी आंखों के सामने देख पार्षद ऑक्सीजन की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए। करीब दो घंटे तक धरने पर बैठने के बाद एसीएम विनय कुमार द्वारा अस्पताल प्रबंधन को ऑक्सीजन की आपूति कराने के आश्वासन पर पार्षद ने अपना धरना खत्म किया। इंदिरापुरम शिप्रा सनसिटी निवासी पार्षद संजय सिंह अहिसा खंड दो स्थित शांति गोपाल अस्पताल पहुंचे। पार्षद ने बताया कि उनकी आंखों के सामने एक युवक की आक्सीजन न मिलने से मौत हो गई। युवक की पत्नी शव के पास बैठकर विलाप कर रही थी। उन्होंने बताया कि अस्पताल को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पा रहा है, दो दिन पूर्व ही यहां 20 बेड का कोविड वार्ड बनाया है। संजय सिंह का आरोप है कि ऑक्सीजन की आपूर्ति में भेदभाव बरती जा रही है।

अलग-अलग सड़क हादसे में तीन लोगों की मौत

नोएडा में थाना ईकोटेक- प्रथम क्षेत्र के ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे पर बुधवार को हुए एक सड़क हादसे में दो युवकों की मौत हो गई। वहीं, थाना ईकोटेक- तीन क्षेत्र में हुए एक अन्य सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई। पुलिस के एक अधिकारी ने इस बारे में बताया। पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के मीडिया प्रभारी ने बताया कि थाना ईकोटेक-प्रथम क्षेत्र में बुधवार को हुए एक सड़क हादसे में मोहित (27) और मन्नू उर्फ मोनू (28) की मौत हो गई। मीडिया प्रभारी ने बताया कि ये दोनों अपने परिजनों के साथ एक कार में पलवल से ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे के रास्ते जनपद बुलंदशहर के सिकंदराबाद जा रहे थे। थाना इकोटेक-प्रथम क्षेत्र में इन लोगों ने अपनी कार रोकी तथा सड़क पार कर दूसरी तरफ जाने लगे। तभी पीछे से आ रहे एक वाहन ने दोनों को कुचल दिया। दोनों युवकों की मौके पर ही मौत हो गई। उन्होंने बताया कि घटना की रिपोर्ट दर्ज कर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पड़ोसियों ने युवक को पीट-पीटकर मार डाला

मयूर विहार डासना में पानी रोकने पर हुए विवाद में पड़ोसियों ने 55 वर्षीय रमजानो को पीट-पीटकर मार डाला। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि पड़ोसियों ने पहले लाठी-डंडों से हमला किया फिर छत से पथराव किया। पथराव में रमजानो के दो बेटे शाहरुख और माजिद भी गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। मृतका के पति इलियास की तहरीर पर पुलिस ने पड़ोसी परिवार के पांच सदस्यों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया है। सभी आरोपी फरार हैं। डासना के मयूर विहार निवासी इलियास और उनके बेटे कारपेंटर का काम करते हैं। उनका कहना है कि मंगलवार को उन्होंने अपने घर के गेट पर सीढ़ी बनवाई थी, इसके चलते उन्हें रात भर के लिए नाली का पानी रोकना पड़ा। आरोप है कि पड़ोसी बाले हसन ने पानी रोकने का विरोध करते हुए गाली-गलौज शुरू कर दी।e

छात्र का अपहरण कर मांगी 10 लाख की फिरौती

नंदग्राम थानाक्षेत्र के कृष्णानगर निवासी कारोबारी के बेटे व 12वीं के छात्र वंश गोस्वामी को अगवा कर 10 लाख की फिरौती मांगने का मामला सामने आया है। चार आरोपी उसे चाकू के बल पर अगवा कर हिंडन नदी पर ले गए और उसी के फोन से परिजनों के पास फिरौती का फोन किया। विरोध करने पर अपहर्ताओं ने वंश पर पत्थरों से हमला कर दिया। इस दौरान वंश ने मरने का नाटक कर खुद की जान बचाई। मरा समझकर अपहरणकर्ता उसे हिंडन नदी में फेंक कर फरार हो गए। वह जैसे-तैसे हिंडन से निकलकर सड़क पर आया और किसी वाहन में लिफ्ट लेकर घर पहुंचा। पुलिस ने अपहरण और फिरौती का केस दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। मुख्य आरोपी और उसके दो साथी फरार हैं। घायल छात्र को मेरठ रोड स्थित कैलाश अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

रेमडेसिविर के साथ पकड़े गए आरोपी पर लगाया एनएसए

सेक्टर-20 थाना क्षेत्र में रेमडेसिविर के साथ पकड़ा गए आरोपी रचित घई पर नोएडा पुलिस एनएसए लगा रही है। पुलिस का दावा है कि यह रेमडेसिविर जीवन रक्षक दवा की कालाबाजारी पर एनएसए का प्रदेश का पहला मुकदमा होगा। इसमें उसके साथ ही उसे इंजेक्शन उपलब्ध कराने वाले सप्लायर मेन्यूफैक्चर और अन्य लोगों पर भी एनएसए के तहत ही कार्रवाई होगी। एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि जीवन रक्षक दवाओं की कालाबजारी के मामले में पुलिस एनएसए के तहत कार्रवाई कर रही है और रचित उसके पूरे गिरोह पर एनएसए लगाने के लिए सारे तथ्य जुटाये जा रहे हैं। अभी तक की जांच में पता चला है कि वह यह सारे इंजेक्शन चंड़ीगढ़ के पास पिंजौर से लाया था।

Next Story