Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Noida Jewar Airport: दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो और जेवर एयरपोर्ट मेट्रो को जोड़ने की तैयारी, DMRC को मिली जिम्मेदारी

Noida Jewar Airport: टीओआर के मुताबिक, नॉलेज पार्क के मेट्रो स्टेशन से नोएडा एयरपोर्ट तक 35.6 किमी लंबे मेट्रो कॉरिडोर की डीपीआर तैयार की जाएगी। इसमें मेट्रो स्टेशन की संख्या कम से कम रखी जाएगी। इस रूट पर 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से मेट्रो दौड़ाने के लिए स्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। इसके अलावा डीपीआर में मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट, यात्री, डिपो, स्टेशन की लोकेशन आदि की जानकारी होगी।

Noida Jewar Airport: दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो और जेवर एयरपोर्ट मेट्रो को जोड़ने की तैयारी, DMRC को मिली जिम्मेदारी
X

 दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो और जेवर एयरपोर्ट मेट्रो को जोड़ने की तैयारी

Noida Jewar Airport: नोएडा में बन रहा देश का सबसे बड़ा जेवर एयरपोर्ट को अब मेट्रो से जोड़ने की तैयारी हो रही है। इसे दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो और जेवर एयरपोर्ट मेट्रो को ग्रेटर नोएडा में जोड़ा जाएगा। इस प्रोजेक्ट पर काम करने की जिम्मेदारी दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) को सौंपी गई है। डीएमआरसी फीजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार करके यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (Yamuna Authority) को सौंपेगा। इसके लिए विकास प्राधिकरण करीब 5 करोड़ रुपये का भुगतान डीएमआरसी को करेगा।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ग्रेटर नोएडा से जेवर एयरपोर्ट तक मेट्रो की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) के साथ ग्रेटर नोएडा से नई दिल्ली एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन तक फिजबिलिटी रिपोर्ट भी बनाएगा। दोनों प्रोजेक्ट की रिपोर्ट में क्या-क्या काम करेंगे, इसके लिए डीएमआरसी ने यमुना प्राधिकरण को टर्म ऑफ रेफरेंस (टीओआर) सौंप दिया है। डीएमआरसी ने बताया है कि डीपीआर 9 महीने में और फिजबिलिटी रिपोर्ट छह महीने में तैयार हो जाएंगी। ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क-2 से जेवर एयरपोर्ट तक मेट्रो चलाई जानी है।

इसके लिए पहले सामान्य मेट्रो चलाने की योजना थी। इसकी डीपीआर बन गई थी। लेकिन, एयरपोर्ट के चलते यहां एक्सप्रेस मेट्रो चलाई जाएगी। इसके लिए डीएमआरसी से डीपीआर बनवाने का फैसला लिया गया। टीओआर के मुताबिक, नॉलेज पार्क दो मेट्रो स्टेशन से नोएडा एयरपोर्ट तक 35.6 किमी लंबे मेट्रो कॉरिडोर की डीपीआर तैयार की जाएगी। इसमें मेट्रो स्टेशन की संख्या कम से कम रखी जाएगी।

इस रूट पर 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से मेट्रो दौड़ाने के लिए स्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। इसके अलावा डीपीआर में मल्टी मॉडल ट्रांसपोर्ट, यात्री, डिपो, स्टेशन की लोकेशन आदि की जानकारी होगी। डीएमआरसी अब नई दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट और नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर को आपस में मेट्रो से जोड़ने के लिए संभावनाएं तलाश की जाएगी। इसकी फिजबिलिटी रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

Next Story