Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हाईटेक शहर में पुलिसकर्मी ने अपने साथियों को आशियाने दिलाने का दिया झांसा, पता लगा तो अधिकारियों ने लिया ये एक्शन

इस मामले में उस पुलिस अधिकारी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई। आरोपी की पहचान कपिल बालियान (Kapil Baliyan) के तौर पर हुई है। नोएडा पुलिस ने बताया कि आरोपी पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई (Action) की गई है तथा विभागीय जांच जारी है।

हाईटेक शहर में पुलिसकर्मी ने अपने साथियों को आशियाने दिलाने का दिया झांसा, पता लगा तो अधिकारियों ने लिया ये एक्शन
X

हाईटेक शहर में पुलिसकर्मी ने अपने साथियों को आशियाने दिलाने का दिया झांसा

Noida Fraud नोएडा में ठगी की वारदात बढ़ती जा रही है। लेकिन इस बार ठगी करने वाले कानून के रखवाले ही निकल गये। नोएडा पुलिस (Noida Police) के एक अधिकारी ने ठग (cheated) बनकर अपने ही साथियों को चूना लगा दिया है। अधिकारी ने सरकारी घर दिवलाने के नाम पर आधा दर्जन साथियों के साथ ठगी को अंजाम दिया। इस मामले में उस पुलिस अधिकारी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई। आरोपी की पहचान कपिल बालियान (Kapil Baliyan) के तौर पर हुई है। नोएडा पुलिस ने बताया कि आरोपी पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई (Action) की गई है तथा विभागीय जांच जारी है।

पुलिस क्वार्टर आवंटित कराने के नाम पर वसूली मोटी रकम

दरअसल, नोएडा के गौतम बुद्ध नगर पुलिस आयुक्तालय में एक सिपाही ने सरकारी घर दिलवाने के नाम पर आधा दर्जन पुलिसकर्मियों से कथित रूप से ठगी की। इस मामले की शिकायत एक पुलिसकर्मी ने आला अधिकारियों से की है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि गौतम बुद्धनगर आयुक्तालय में एक वरिष्ठ अधिकारी के कार्यालय में तैनात कांस्टेबल कपिल बालियान ने आधा दर्जन पुलिस कर्मियों से पुलिस लाइन तथा अन्य जगहों पर स्थित पुलिस क्वार्टर आवंटित कराने के नाम पर कथित रूप से मोटी रकम वसूली।

यातायात पुलिस में तैनात कांस्टेबल रवि पवार की थी शिकायत

काफी दिन बीत जाने के बाद जब पुलिस कर्मियों को क्वार्टर आवंटित नहीं हुआ, तो यातायात पुलिस में तैनात कांस्टेबल रवि पवार ने इस मामले की शिकायत महकमे के आला अधिकारियों से की। पवार ने उन पुलिसकर्मियों के नाम भी बताए जिनसे क्वार्टर आवंटित कराने के नाम पर कथित रूप से पैसे लिए गए। इस मामले की जांच अपर पुलिस उपायुक्त स्तर के अधिकारी को सौंपी गई है। सूत्रों ने बताया कि कई पुलिसकर्मियों ने अपना बयान दर्ज कराया। पुलिस उपायुक्त /डीआईजी (मुख्यालय) नितिन तिवारी ने बताया कि कुछ दिन पूर्व यह प्रकरण उनके संज्ञान में आया।

Next Story