Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नोएडा में कोरोना बना काल! एक महीने में संक्रमण से पूरे परिवार की मौत, महिला को नहीं मिला अपनों का कंधा

मूलरूप से चेन्नई के रहने वाले रामलिंगम अपने परिवार के साथ नोएडा सेक्टर-49 में रहते थे। पिछले महीने इनकी बेटी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गई थी। उसे एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां 20 अप्रैल को उसकी मौत हो गई। इसके बाद रामलिंगम को भी कोरोना हो गया। उनको हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां मई की शुरुआत में उनकी भी मौत हो गई। करीब 15 दिन के अंतराल पर घर में दो मौत हो गईं।

नोएडा में कोरोना बना काल! एक महीने में संक्रमण से पूरे परिवार की मौत, महिला को नहीं मिला अपनों का कंधा
X

कोरोना 

Noida Coronavirus नोएडा में कोरोना महामारी के कारण एक घर से पिछले महीने बेटी की मौत (Entire Family Deaths of Infection) हो गई। इस महीने की शुरुआत में पति साथ छोड़ गए और अब पत्नी ने भी दुनिया को अलविदा कह दिया। कोरोना से इस परिवार के सभी सदस्यों की मौत हो गई। घर में कोई सदस्य नहीं होने के कारण महिला को अपनों का कंधा भी नहीं मिल सका। श्मशान घाट में मौजूद शहर के लोगों ने ही उसका अंतिम संस्कार किया।

मूलरूप से चेन्नई के रहने वाले रामलिंगम अपने परिवार के साथ नोएडा सेक्टर-49 में रहते थे। पिछले महीने इनकी बेटी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गई थी। उसे एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां 20 अप्रैल को उसकी मौत हो गई। इसके बाद रामलिंगम को भी कोरोना हो गया। उनको हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां मई की शुरुआत में उनकी भी मौत हो गई। करीब 15 दिन के अंतराल पर घर में दो मौत हो गईं।

बताया जा रहा है कि नोएडा सेक्टर-49 में रहने वाला परिवार मूलरूप से चेन्नई के निवासी थे। पिछले महीने इनकी बेटी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गई थी। उसे एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां 20 अप्रैल को उसकी मौत हो गई। इसके बाद रामलिंगम को भी कोरोना हो गया। उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां मई की शुरुआत में उनकी भी मौत हो गई।

करीब 15 दिन के अंतराल पर घर में दो मौत हो गईं। रामलिंगम की पत्नी वनिथा उनके अंतिम संस्कार की प्रक्रिया में हिस्सा लेने सेक्टर-94 स्थित श्मशान घाट आई थीं। वहां मौजूद लोगों की मदद से उन्होंने अपने पति का अंतिम संस्कार किया था। बुधवार को वह भी दुनिया छोड़कर चली गईं, मगर दुनिया से विदा लेते समय उन्हें अपनों का कंधा तक नहीं नसीब हुआ।

Next Story