Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Mausam Ki Jankari: दिल्ली में फिर से आंधी के साथ बारिश की आशंका, IMD ने दी चेतावनी

Mausam Ki Jankari: आईएमडी ने आज पहले एक ट्वीट में, अगले 2 घंटों में हरियाणा और राजस्थान के कुछ हिस्सों में और आसपास के क्षेत्रों में 30-50 किमी/ घंटा की गति के साथ तेज हवाओं के साथ गरज के साथ बारिश और हल्की से मध्यम तीव्रता की बारिश की भविष्यवाणी की थी।

Mausam Ki Jankari: दिल्ली में फिर से आंधी के साथ बारिश की आशंका, IMD ने दी चेतावनी
X

 दिल्ली में फिर से आंधी के साथ बारिश की आशंका

Mausam Ki Jankari दिल्ली में अचानक मौसम का मिजाज बदल गया है। बीती रात राजधानी में तेज आंधी के साथ जोरदार बारिश (Rain) देखने को मिली। जिससे तापमान (Delhi Temperature) में भारी गिरावट दर्ज की गई। फिलहाल लोगों को गर्मी से राहत मिली हुई है। इस बीच, भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने मंगलवार सुबह दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में अगले दो घंटों में हल्की बारिश/बूंदाबांदी होने की संभावना जताई है। दिल्ली में मंगलवार को अधिकतम तापमान 35 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है जबकि न्यूनतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान जताया गया है।

आईएमडी ने आज पहले एक ट्वीट में, अगले 2 घंटों में हरियाणा और राजस्थान के कुछ हिस्सों में और आसपास के क्षेत्रों में 30-50 किमी/ घंटा की गति के साथ तेज हवाओं के साथ गरज के साथ बारिश और हल्की से मध्यम तीव्रता की बारिश की भविष्यवाणी की थी। सुबह 7.00 बजे किए गए ट्वीट में कहा गया था कि अगले 2 घंटों के दौरान दिल्ली के अलग-अलग स्थानों पर और आसपास के क्षेत्रों में हल्की तीव्रता की बारिश / बूंदा बांदी होगी।

मई में 13 साल में सबसे कम औसत तापमान दर्ज

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बताया कि दिल्ली में मई के महीने में औसत अधिकतम तापमान 37.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जो इस महीने में पिछले 13 वर्षों में सबसे कम है। आईएमडी ने बताया कि 2014 के बाद यह पहली बार है कि सफदरजंग वेधशाला में मानसून पूर्व अवधि में लू का चलना रिकॉर्ड नहीं किया गया। आईएमडी में क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि मई में शहर में औसत अधिकतम तापमान 37.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

आईएमडी के मुताबिक, शहर में 19 मई को अधिकतम तापमान 23.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जो सामान्य से 16 डिग्री कम और मई के महीने में 1951 के बाद सबसे कम था। श्रीवास्तव ने कहा पहले तो पश्चिमी विक्षोभ के कारण पारा नियंत्रण में रहा और बाद में चक्रवात ताउते की वजह से 'रिकॉर्ड' बारिश हुई।

Next Story