Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मनीष सिसोदिया के आरोप पर संबित पात्रा बोले-दिल्ली सरकार विज्ञापन देने में आगे, नहीं बनाया एक भी अस्पताल

राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि 26 अप्रैल को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम 1 करोड़ 34 लाख वैक्सीन का ऑर्डर देने वाले हैं और हमने ये मंजूरी दे दी है। आज वे कह रहे हैं हमारे पास कुछ नहीं है। सिसोदिया जी उसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहते हैं कि हमने ऑर्डर नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विज्ञापन पर 804.93 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। 7 सालों में जब से वे मुख्यमंत्री हैं उन्होंने दिल्ली में एक भी अस्पताल नहीं खोला है।

मनीष सिसोदिया के आरोप पर बोले संबित पात्रा- दिल्ली सरकार बस विज्ञापन देने में आगे, नहीं बनाया एक भी अस्पताल
X

मनीष सिसोदिया के आरोप पर बोले संबित पात्रा

Delhi Coronavirus दिल्ली में कोरोना से स्थिति थोड़ी सुधरने लगी है। लेकिन अस्पतालों (Delhi Hospitals) में संसाधनों की कमी फिलहाल ज्यों का त्यों हैं। राजधानी में संक्रमण के मामले कम हुए है लेकिन मौतों की संख्या कम नहीं हो रही है। जिसे लेकन बीते दिन दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish sisodia) ने केंद्र पर आरोप लगाए थे। जिसके जवाब में आज भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा (Sambit Patra) ने कहा कि 26 अप्रैल को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अरविंद केजरीवाल (CM Arvind kejriwal) ने कहा कि हम 1 करोड़ 34 लाख वैक्सीन का ऑर्डर (Vaccine Order) देने वाले हैं और हमने ये मंजूरी दे दी है।

आज वे कह रहे हैं हमारे पास कुछ नहीं है। सिसोदिया जी उसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहते हैं कि हमने ऑर्डर नहीं दिया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने विज्ञापन पर 804.93 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। 7 सालों में जब से वे मुख्यमंत्री हैं उन्होंने दिल्ली में एक भी अस्पताल नहीं खोला है।

इससे पहले, दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने टीके निर्यात करने को लेकर रविवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर अपने देश में लोगों को पहले टीके लगाए जाते तो बड़ी संख्या में जीवन बचाए जा सकते थे। सिसोदिया ने ऑनलाइन प्रेसवार्ता में आरोप लगाया कि जब हमारे अपने देश में लोग मर रहे थे, उस समय केंद्र ने केवल अपनी छवि प्रबंधन के लिए अन्य देशों को टीके की बिक्री की, जोकि केंद्र सरकार द्वारा किया गया जघन्य अपराध है।

Next Story