Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जेएनयू के Assistant Professor ने अपहरणकर्ताओं को मोदी समर्थक होने का किया दावा, कहा- मेरी कार छीनी और मुझे एंटी नेशनल कहा

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) के एक सहायक प्रोफेसर(Assistant Professor) ने खुद का अपहरण होने का दावा किया है कि अपहरणकर्ताओं (Kidnappers) ने पहले उनका अपहरण किया और फिर उनकी कार छीन ली। उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपी को जेएनयू पसंद नहीं था।

जेएनयू के Assistant Professor ने अपहरणकर्ताओं को मोदी समर्थक होने का किया दावा, कहा- मेरी कार छीनी और मुझे एंटी नेशनल कहा
X

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (Jawaharlal Nehru University) के एक सहायक प्रोफेसर(Assistant Professor) ने खुद का अपहरण होने का दावा किया है कि अपहरणकर्ताओं (Kidnappers) ने पहले उनका अपहरण किया और फिर उनकी कार छीन ली। उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपी को जेएनयू पसंद नहीं था। वही आरोपी ने मुझे देशद्रोही भी कहा।

वहीं जेएनयू (JNU) के प्रोफेसर (Professor) के अपहरण की खबर सामने आते ही जेएनयू कैंपस (JNU Campus) समेत पूरी दिल्ली में हड़कंप मच गया। इस मामले में प्रोफेसर शरद बाविस्कर की शिकायत पर दिल्ली के नारायण थाना पुलिस (Narayan Thana Police) ने एफआईआर दर्ज (FIR Registered) की है। पुलिस (police) के अनुसार इस मामले में धारा 323, 365, 392 और 34 के तहत प्राथमिकी दर्ज ( FIR Registered) की गई है।

जिसके बाद पुलिस की टीम आरोपियों की तलाश में जुट गई है। कथित व्यक्तियों का जल्द से जल्द सुराग लगाने और उनका पता लगाने के लिए टीमों को तैनात किया गया है। वही प्रोफेसर शरद बाविस्कर ने सोशल मीडिया (Social Media) पर इस घटना की जानकारी दी। उन्होंने लिखा कि मैं बच गया। जेएनयू वापस जाते समय मेरा अपहरण कर लिया गया था।

मुझे अपनी कार, अपना पर्स आरोपियों को सौंपना पड़ा क्योंकि उनकी संख्या अधिक थी। मेरा क्रेडिट कार्ड (Credit Card) भी चोरी हो गया है। यह मेरी गलती थी कि आरोपी को जेएनयू (JNU) पसंद नहीं आया था। वे सभी मोदी समर्थक होने का दावा कर रहे थे। उन्होंने मुझे देशद्रोही कहा। मैं कड़ी मशक्कत के बाद किसी तरह जेएनयू पहुंचा।

और पढ़ें
Next Story