Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वाहन चलाते समय जरूर रखें ये दस्तावेज, न मिलने पर 10000 के जुर्माने के साथ निरस्त कर दिया जाएगा लाइसेंस, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने शुरू की कार्रवाई

केंद्र सरकार ने पीयूसी के नियमों में किये बदलाव। अब नियमों का उल्लंघन करने वाले ज्यादा से ज्यादा लोगों पर पाया जा सकेगा नियंत्रण।

वाहन चलाते समय जरूर रखें ये दस्तावेज, न मिलने पर 10000 के जुर्माने के साथ निरस्त कर दिया जाएगा लाइसेंस, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने शुरू की कार्रवाई
X

गर्मी और बरसात के बाद अगले कुछ ही दिनों में सर्दी का मौसम आने वाला है। ऐसे में यहां सर्दी के साथ ही दमघोंटू वातावरण हो जाता है। इसकी वजह (Air Pollution) वायु प्रदूषण की बड़ी समस्या होना है। इसी को देखते हुए दिल्ली सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने बिना पीयूसी के वाहन चलाने वालों से दिल्ली पुलिस को संख्ती से निपटने के आदेश दिये हैं। ऐसे में अगर आप भी बिना (PUC) यानि पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट के वाहन चला रहे हैं तो आप पर 10 हजार रुपये के जुर्मानें के साथ ही लाइसेंस निरस्त और जेल भी हो सकती है।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने शुरू की कार्रवाई

दरअसल, किसी भी वाहन चालक को बाइक या गाड़ी चलाते समय उसका (Valid Registration) वैद्य रजिस्ट्रेशन यानि आरसी, ड्राइविंग लाइसेंस, इंश्योरेंस और पीयूसी यानि पॉल्यूशन सर्टिफिकेट (Pollution Certificate) रखना जरूरी होता है। वैसे तो यह सभी दस्तावेज बहुत ही अहम है, लेकिन इस समय वायु प्रदूषण को देखते हुए सरकार से लेकर दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की नजर वाहनों के पीयूसी पर है। इतना ही नहीं अगर वाहन चालक के पास पीयूसी नहीं मिलता है तो छह महीने की जेल या 10 हजार रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है। इसके साथ ही 3 महीने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस भी रद्द किया जाएगा। दिल्ली पुलिस के एक्शन मोड़ में आते ही यहां चालान कटने की संख्या बढ़ जाएगी। ऐसे में वायु प्रदूषण कम हो और वाहन चालक भी इसकी जिम्मेदारी लें। इसी को देखते हुए प्रदूषण विभाग ने भी चेतावनी के साथ ही लोगों से की अपील की है कि वह घर से निकलने से पहले अपनी बाइक, गाड़ी या दूसरे वाहनों का पॉल्यूशन टेस्ट कराकर वैध पॉल्यूशन सर्टिफिकेट जरूर रखें।

सरकार ने प्रदूषण सर्टिफिकेट के नियमों में किये बदलाव

हाल ही में केंद्र सरकार ने केंद्रीय मोटर वाहन नियम 1989 के तहत कुछ बदलाव किये हैं। जिसके तहत पूरे देश में एक समान प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र जारी किये जाएंगे। इनकी समय सीमा भी एक जैसी होगी। साथ ही सरकार द्वारा किये गये। इन बदलावों के बाद आईटी इनेबिल्ड होगा और प्रदूषण करने वालें वाहनों पर पहले से ज्यादा तेजी और संख्या में नियंत्रण किया जा सकेगा।

Next Story