Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिवाली पर गुरुग्राम में बदमाशों ने पूजा कर रहे एक ही परिवार के 6 लोगों को मारी गोली, फायरिंग कर फरार हुए अपराधी

देश की राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम (Gurugram) में दिवाली की रात पटाखों की आवाज के बीच एक बड़ी घटना को अंजाम दिया गया। गुरुग्राम के कासन गांव में पांच-छह बाइक सवार बदमाशों ने एक घर में घुसकर पूजा कर रहे परिवार पर फायरिंग (Firing) कर दी।

दिवाली पर गुरुग्राम में बदमाशों ने पूजा कर रहे एक ही परिवार के 6 लोगों को मारी गोली, फायरिंग कर फरार हुए अपराधी
X

राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम (Gurugram) में दिवाली की रात पटाखों की आवाज के बीच बदमाशों ने फिल्मी स्टाइल में एक बड़ी घटना को अंजाम दिया गया। गुरुग्राम के कासन गांव में पांच-छह बाइक सवार बदमाशों ने एक घर में घुसकर पूजा कर रहे परिवार पर फायरिंग (Firing) कर दी। जिसमें छह लोगों को गोलियां लगी गई, और दो लोगों की मौत हो गई जबकि अन्य की हालत गंभीर बताई गई है। हमले में घर का डॉग भी घायल है। घायलों को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वारदात में बदमाशों ने करीब सौ गोलियां बरसाई। पुलिस को कारतूस के कई खोल मिले हैं। वहीं गांव में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। बदमाशों की धरपकड़ के लिए इलाके में कई जगह नाकेबंदी की गई है। आईएमटी मानेसर थाना पुलिस के साथ ही क्राइम ब्रांच की चार टीमें छानबीन में जुट गई हैं।

गांव कासन के पूर्व सरपंच स्व. गोपाल सिंह के परिवार के लोगा दिवाली मना रहे थे। रात करीब सवा आठ बजे करीब छह बदमाश घर में घुसे। मुख्य दरवाजे पर महिला कुत्ते का खाना खिला रही थी। इसी बीच बदमाशों ने उस पर फायरिंग की तो वफादार कुत्ता बीच में आ गया और महिला के खतरे को अपने ऊपर ले लिया। बदमाश घर में घुसे तो 21 वर्षीय विकास सामने आया बदमाशों न उस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर उसे वहीं ढेर कर दिया। इसके बाद घर की बैठक में बैठे अन्य लोगों पर फायरिंग की। इसके बाद हमलावर फरार हो गए। हमले में सोहनपाल उर्फ सोनू सिंह, बलराम सिंह राघव, रिश्तेदार राजेश सिंह, विकास सिंह, हर्ष सिंह व आठ वर्षीय यश गंभीर रूप से घायल हो गए। जिनको निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में विकास सिंह व सोनू सिंह को मृत घोषित कर दिया गया। दीपावली पर आतिशबाजी की वजह से पड़ोसियों को भी गोलियां चलने का पता नहीं चला। बदमाशों के भागने के बाद जब रोने की आवाज सुन पड़ोसी दौड़े।

होली पर हुई भाई की हत्या, दिवाली पर बदला

गांव के ही रिंकू उर्फ योगेंद्र पर वारदात को अंजाम देने में ऊपर जताया जा रहा है। रिंकू ने मनीष सहित अपने कई अन्य साथियों की मदद से वारदात को अंजाम दिया। बताया जाता है कि रिंकू के भाई मनोज की वर्ष 2007 में होली के दिन गोली लगने से मौत हो गई थी। वह अपने भाई की मौत के लिए पूर्व सरपंच स्व. गोपाल सिंह के बेटों को जिम्मेदार मानता है। तभी से रंजिश रखे हुए है, जिसका बदला उसने दिवाली के दिन अपने साथियों के साथ मिलकर लिया। हालांकि पूरी सच्चाई जांच से ही या फिर आरोपितों की गिरफ्तारी से ही सामने आएगी।

पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया

एसीपी वीरसिंह व आईएमटी मानेसर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर यशवंत सिंह का भी कहना है कि बदमाश रिंकू की पूर्व सरपंच स्व. गोपाल सिंह के परिवार से रंजिश है। इससे शक उसी के ऊपर है। पहले भी दोनों परिवार के बीच झड़प हो चुकी है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। जल्द ही पूरी सच्चाई सामने लाई जाएगी। आरोपितों की पहचान करने से लेकर उनकी गिरफ्तारी को लेकर पूरी ताकत झोंक दी गई है। उम्मीद है जल्द ही सफलता मिलेगी।

Next Story