Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गोपाल राय ने पराली जलाने वालों को दी सलाह, बोले- 'बायो डीकम्पोजर' का करें इस्तेमाल

दिल्ली में प्रदूषण में पराली की हिस्सेदारी बढ़कर 20 प्रतिशत से अधिक हो चुकी है। इसी समस्या को हल करने के लिए दिल्ली सरकार ने पूसा इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर 'बायो डिकम्पोजर' का निर्माण किया। जो काफी सस्ता और दिल्ली के खेतों में काफी हद तक सफल रहा है।

गोपाल राय बोले- अब दिल्ली में पराली जलाने से नहीं होगा प्रदूषण, पड़ोसी राज्य
X

गोपाल राय बोले- अब दिल्ली में पराली जलाने से नहीं होगा प्रदूषण, पड़ोसी राज्य 'बायो-डिकम्पोज़र' का करें प्रयोग

दिल्ली में एक बार फिर से प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगा है। जिसके कारण दिल्ली के लोगों को समस्या आनी शुरू हो गई। एक सर्वे के मुताबिक, दिल्ली में प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण पड़ोसी राज्यों में जलाई जा रही पराली को माना जा रहा है।

दिल्ली में प्रदूषण में पराली की हिस्सेदारी बढ़कर 20 प्रतिशत से अधिक हो चुकी है। इसी समस्या को हल करने के लिए दिल्ली सरकार ने पूसा इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर 'बायो डिकम्पोजर' का निर्माण किया। जो काफी सस्ता और दिल्ली के खेतों में काफी हद तक सफल रहा है।

इसी क्रम में मंगलवार को दिल्ली पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बताया कि पराली गलाने के लिए दिल्ली सरकार ने जो बायो-डिकम्पोज़र का प्रयोग किया है वो काफी सफल रहा है। कल हमने एयर क्वालिटी मैनेजमेंट कमीशन के सामने एक पिटीशन दायर की ताकि बायो-डिकम्पोज़र को सभी राज्यों में अनिवार्य किया जाए और पराली की समस्या कम हो।

DPCC के आंकड़ों के अनुसार आनंद विहार में एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 402 गंभीर श्रेणी पर, आर के पुरम में 366 बहुत खराब श्रेणी पर, जहांगीरपुरी में 418 गंभीर श्रेणी पर, पटपड़गंज में 400 बहुत खराब श्रेणी पर है।

Next Story