Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गाजियाबाद में नाली के विवाद में महिला की पत्थर मारकर हत्या, साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज

जानकारी के मुताबिक, डासना की मयूर विहार कॉलोनी में इलियास नाम का एक शख्स फर्नीचर का काम करता है। इलियास ने 20 अप्रैल को अपने मकान के बाहर रैंप बनाने का काम शुरू किया था, सीमेंट नालियों में ना बहे इसके लिए इलियास ने पड़ोसी वालेहसन के सामने ही नाली का पानी रोक दिया था।

गाजियाबाद में नाली के विवाद में महिला की पत्थर मारकर हत्या, साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज
X
हत्या (प्रतीकात्मक फोटो)

Ghaziabad Crime : गाजियाबाद में नाली (Drain) को लेकर हुए विवाद ने खूनी संघर्ष देखने को मिला। इस विवाद में पड़ोसियों ने पत्थर मारकर एक महिला (Woman Murder) की हत्या की कर दी है। इस मारपीट के दौरान आरोपियों ने महिला के बेटे की भी बुरी तरह पिटाई की है। पुलिस (Police) ने रिपोर्ट दर्ज कर मुख्य आरोपी, उसके पिता को गिरफ़्तार (Arrested) कर लिया है, जबकि उसके नाबालिग भाई को हिरासत में लिया गया है। जानकारी के मुताबिक, डासना की मयूर विहार कॉलोनी में इलियास नाम के एक शख्स फर्नीचर का काम करते हैं। इलियास ने 20 अप्रैल को अपने मकान के बाहर रैंप बनाने का काम शुरू किया था, सीमेंट नालियों में ना बहे इसके लिए इलियास ने पड़ोसी वालेहसन के सामने ही नाली का पानी रोक दिया था।

100 से ज्यादा ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ दो आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली एनसीआर में ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी का बड़ा मामला सामने आया है। गाजियाबाद पुलिस की एक टीम ने एक साथ दबिश देकर दो स्थानों से 101 सिलेंडर बरामद किए हैं। इसमें 30 सिलेंडर भरे हुए हैं, वहीं बाकी खाली हैं। पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान कैला भट्ठा के रहने वाले आकिल सैफी पुत्र असरफ और न्यू प्रेम नगर जस्सीपुरा के रहने वाले जावेद मलिक के रूप में हुई है। पुलिस के अपराध शाखा प्रभारी संजय पांडेय ने बताया कि कई दिनों से ऑक्सीजन के सिलेंडर की कालाबाजारी की खबरें आ रही थीं। ऐसे में पुलिस की टीमें दो दिन से पता करने का प्रयास कर रही थी कि आखिर यह सिलेंडर कहां से आ रहे हैं। इसी क्रम में शनिवार को पता चला कि कैला भट्ठा स्थित किसी गैस गोदाम से सिलेंडरों की कालाबाजारी हो रही है।

व्यापारी की लाश मोर्चरी में मिलने से सनसनी

गाजियाबाद के कविनगर से तीन दिन पहले गायब हुए व्यापारी की लाश नोएडा की मोर्चरी में मिलने से सनसनी फैल गई है। संदीप नाम के स्टील कारोबारी सोमवार खाना खाने के बाद टहलने के लिए निकले थे, काफी वक्त बीत जाने के बाद जब वे घर वापस नहीं लौटे तो उनके परिवार वालों ने उन्हें खोजना शुरू कर दिया। जब कोई सुराग नहीं लगा तो घरवालों ने परेशान होकर गाजियाबाद के कविनगर थाने में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवा दी। संदीप की गुमशुदगी की खबर मिलने के बाद पुलिस ने जब उनकी तलाश शुरू की, तो उनकी आखिरी लोकेशन बुलंदशहर रोड पर इंडस्ट्रियल इलाके में मिली। इस इलाके में पुलिस की एक टीम रवाना की गई लेकिन इसके बावजूद संदीप का कोई सुराग नहीं मिला।

अंतिम संस्कार के नाम पर ठगी

नोएडा में संक्रमितों के अंतिम संस्कार कराने के नाम पर ठगी की खबर सामने आई है। नोएडा के सेक्टर-78 निवासी युक्ति आर्य का आरोप है कि एक रिश्तेदार की मौत के बाद अंतिम संस्कार के लिए एक वेबसाइट पर 25 हजार रुपये में बुकिंग की थी, लेकिन जब शव को लेकर दिल्ली के लोधी रोड स्थित श्मशान घाट पहुंचे तो वहां पर कोई व्यवस्था नहीं थी। चार घंटे तक इधर-उधर टहलने के बाद मजबूरी में ब्रज घाट ले जाना पड़ा। इसके लिए एंबुलेंस चालक ने 25 हजार रुपये अलग से ले लिए। इसके बाद उन्होंने आईजीआरएस पर शिकायत करते हुए मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाई है। वे फिटनेस ट्रेनर युक्ति फिट इंडिया मूवमेंट की ब्रांड एंबेसडर भी हैं।

ऑक्सीजन की कमी से आठ कोरोना संक्रमितों की मौत

नोएडा में ऑक्सीजन की कमी से कोरोना संक्रमितों की मौतें हो रही हैं। इसी तरह नोएडा के सेक्टर-30 चाइल्ड पीजीआई में आठ संक्रमितों की जान चली गई। दिनभर ऑक्सीजन की कमी के कारण मौतें होने की चर्चा रही। चिकित्सा अधीक्षक ने आठ मरीजों के मरने की पुष्टि तो की, लेकिन ऑक्सीजन की कमी से साफ इनकार किया है। वहीं, आठ लोगों की मृत्यु होने का यह आंकड़ा शनिवार को जारी राज्य सरकार की रिपोर्ट में भी नहीं दिया गया है। चाइल्ड पीजीआई में शुक्रवार रात 11 बजे से शनिवार सुबह 5 बजे के बीच आठ मरीजों की मौत की सूचना फैलने के बाद संस्थान में हड़कंप मच गया। इसमें 30 से 50 वर्ष व मरीज 50 से 70 वर्ष के मरीज शामिल थे। परिजन शव लेकर अंतिम संस्कार करने चले गए। संस्थान मृतकों की जानकारी साझा करने से कतराता रहा।

Next Story