Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कांग्रेस CWC की मीटिंग में बागियों पर भड़के गहलोत, पूछा- क्या सोनिया पर नहीं है भरोसा ?

कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने उठाया था पार्टी के नए अध्यक्ष के चुनाव का मुद्दा, गहलोत बोले- देश में कई अहम मसले चल रहे, पहले उन पर फोकस करना जरूरी

कांग्रेस CWC की मीटिंग में बागियों पर भड़के गहलोत, पूछा- क्या सोनिया पर नहीं है भरोसा ?
X

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा के बीच करीब 15 मिनट तक तीखी बहस चली

कांग्रेस के भीतर चलने वाली गुटबाजी शुक्रवार को पार्टी के सबसे अहम फैसले लेने वाली कांग्रेस वर्किंग कमेटी (cwc) की बैठक में भी खुलकर सामने आ गई। नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच ऐसा टकराव हुआ कि वे भूल गए कि वहां उनकी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी भी मौजूद हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो दोनों नेताओं के बीच करीब 15 मिनट तीखी बहस चली। पार्टी की वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी ने जब दोनों को सख्त लहजे में संयम बरतने के लिए कहा, तब कहीं जाकर वे शांत हुए। बहरहाल, दोपहर तक कई प्रस्ताव पास किए जा चुके हैं, कोरोना वैक्सीन से लेकर किसानों तक का मुद्दा शामिल है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में सब कुछ ठीक चल रहा था, लेकिन जैसे ही वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने नए अध्यक्ष चुनाव का मुद्दा उठाया तो राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बिफर पड़े। गहलोत ने आनंद शर्मा पर भड़कते हुए कहा कि आप हर छह महीने में अध्यक्ष का चुनाव मांगते हैं, क्या आपको पार्टी के नेतृत्व पर भरोसा नहीं है। आज किसान आंदोलन, महंगाई, अर्थव्यवस्था जैसे कई मसले चल रहे हैं, ऐसे में इनपर फोकस करना जरूरी है और संगठन के चुनाव बाद में भी कराए जा सकते हैं। इस पर आनंद शर्मा भी बीच-बीच में जवाब देते रहे। दोनों नेताओं के बीच करीब 15 मिनट तक तीखी बहस चली और जब बात हद से ज्यादा आगे बढ़ने का अंदेशा हुआ तो वरिष्ठ नेता अंबिका सोनी बीच-बचाव किया और सख्त लहजे में दोनों को ही संयम बरतने के लिए कह दिया। इसके कुछ समय बाद माहौल सामान्य हुआ, जिसके उपरांत आगे के मुद्दों पर चर्चा शुरू हो गई। पार्टी सूत्रों के मुताबिक नए अध्यक्ष का चुनाव मई में हो सकता है।

केंद्र सरकार पर बरसीं सोनिया गांधी

कांग्रेस वर्किंग कमिटी की बैठक में पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने केंद्र पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि किसानों के मुद्दे पर सरकार का घमंड और असंवेदनशीलता साफ नजर आ रही है। नए कृषि कानूनों को जल्दबाजी में लागू किया गया और संसद में इस पर सही तरीके से चर्चा तक नहीं की गई है। उन्होंने अर्नब गोस्वामी चैट लीक मामले पर भी सरकार को घेरा। रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी की कथित वॉट्सएप चैट का हवाला देते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि दूसरों को देशभक्ति और राष्ट्रवाद का प्रमाणपत्र बांटने वाले अब पूरी तरह बेनकाब हो गए हैं। यह दर्शाता है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से पूर्ण रूप से समझौता किया गया है। उन्होंने कहा, 'एक सप्ताह में संसद सत्र आरंभ होने जा रहा है। यह बजट सत्र है, लेकिन जनहित के कई ऐसे मुद्दे हैं, जिन पर पूरी तरह चर्चा की जरूरत है। देखना है कि क्या क्या सरकार इस पर सहमत होती है। उन्होंने कहा कि सरकार अभी निजीकरण की हड़बड़ी में है।

ये प्रस्ताव किए गए पास

सीडब्ल्यूसी की बैठक में किसानों के मामले पर एक प्रस्ताव पास किया गया। कोरोना वैक्सीन के लिए वैज्ञानिकों को धन्यवाद देने और लोगों से टीका लगवाने के लिए आगे आने की अपील करने का भी प्रस्ताव पास किया गया है। इसके अलावा वॉट्सऐप चैट लीक की जेपीसी जांच को लेकर भी एक प्रस्ताव पारित हुआ।

Next Story