Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गौतमबुद्ध नगर में सबसे बड़ी चोरी के मामले में एक और बड़ा खुलासा, सामने आया बिहार कनेक्शन, साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज

पुलिस की टीम ने योगा टीचर कृष्ण मुरारी सिंह को हिरासत में ले लिया है और उससे पूछताछ की जा रही है। पूछताछ में पता चला कि कृष्ण मुरारी सिंह मूलरूप से बिहार के आरा के रहने वाले है। उसके पिछले पांच सालों से राममणि पांडेय से संबंध हैं। राममणि ने कृष्ण मुरारी के नाम पर ही इस फ्लैट को फरवरी-मार्च 2020 में किराए पर लिया था।

गौतमबुद्ध नगर में सबसे बड़ी चोरी के मामले में एक और बड़ा खुलासा, सामने आया बिहार कनेक्शन, साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज
X

गौतमबुद्ध नगर में सबसे बड़ी चोरी के मामले में एक और बड़ा खुलासा

Noida Crime नोएडा में सबसे बड़ी चोरी के मामले में एक और बड़ा खुलासा (Biggest Theft Case) किया गया है। यहां 14 किलो सोना और 70 लाख रुपये बरामद किए गए थे। ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) की सिल्वर सिटी सोसायटी (Silver City Society) के टावर-5 के फ्लैट नंबर -301 से उसकी चोरी किया गया था। बरामदगी के एक सप्ताह बाद बीते गुरुवार को पुलिस (Noida Police) ने इस फ्लैट का पता निकाल लिया। पुलिस का दावा है कि राममणि पांडेय ने अपने घरेलू योगा टीचर कृष्ण मुरारी सिंह के नाम पर इस फ्लैट को किराए पर लिया था। इसके बाद मामले में बिहार कनेक्शन (Bihar Connection) सामने आया है। पुलिस की टीम ने योगा टीचर कृष्ण मुरारी सिंह को हिरासत में ले लिया है और उससे पूछताछ की जा रही है। पूछताछ में पता चला कि कृष्ण मुरारी सिंह मूलरूप से बिहार के आरा के रहने वाले है। उसके पिछले पांच सालों से राममणि पांडेय से संबंध हैं। राममणि ने कृष्ण मुरारी के नाम पर ही इस फ्लैट को फरवरी-मार्च 2020 में किराए पर लिया था।

दो लाख लीटर पानी से भरी टंकी फटी, बाल-बाल बचे लोग

गाजियाबाद के कौशांबी थाना क्षेत्र अंतर्गत वैशाली कॉलोनी में स्थित एक्सप्रेस ग्रीन्स सोसाइटी में एक बड़ा हादसा होते-होते बच गया। सोसाइटी के ए-ब्लॉक टावर पर रखी हुई दो लाख लीटर पानी से भरी टंकी गड़गड़ाहट के साथ फट गई। इस कारण सोसाइटी के निवासियों में हड़कंप मच गया। लोगों को लगा की बिल्डिंग गिर रही है। लेकिन जब देखा तो पानी की टंकी से पानी निकल रहा था। लोगों ने बताया कि छत से लेकर नीचे तक पानी भर गया। टावर के अधिकांश फ्लैट्स में कई-कई फुट पानी भर गया। गनिमत यह रही कि रेजिडेंट्स ने बुद्घिमानी का प्रयेाग करते हुए तुरंत ही बिजली की सप्लाई ऑफ कर दी। अगर बिजली की सप्लाई बंद नहीं की जाती तो शायद लोगों की जान मुश्किल में पड़ सकती थी।

फर्जी आईपीएस अफसर को गिरफ्तार, लोगों से कर रहा था ठगी

गाजियाबाद में पुलिस और साइबर सेल ने एक फर्जी आईपीएस अफसर को गिरफ्तार किया है। आरोपी ने प्रोफेशनल सोशल साइट लिंक्डइन पर अपना फर्जी आइपीएस वाला प्रोफाइल बना रखा था। जिसके जरिए वो लोगों को नौकरी दिलाने का झांसा देकर उनसे ठगी करता था। गाजियाबाद के इंदिरापुरम में रहने वाले मेजर आर. हुड्डा और सुनील सिंह ने थाना पुलिस को शिकायत दर्ज कराई थी कि एक शख्स ने उन दोनों को नौकरी दिलाने का वादा किया और इस काम के लिए उनसे 4 लाख से ज्यादा रुपये ठग लिए। पुलिस ने शिकायत मिलने के बाद मामला साइबर सेल को रेफर कर दिया। साइबर सेल ने आरोपी की लिंक्डइन आईडी की जांच की और उसके ठिकाने का पता लगा लिया। इसके बाद साइबर सेल और इंदिरापुरम थाने की पुलिस ने दबिश देकर आरोपी अनुज प्रकाश को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी अनुज प्रकाश खुद को आईपीएस अधिकारी बताता था।

कर्ज और बेरोजगारी से परेशान युवक ने की सुसाइड

नोएडा में कर्ज तथा बेरोजगारी से परेशान एक युवक ने कथित तौर पर नाइट्रोजन गैस का मास्क मुंह पर लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने बताया कि थाना फेस-3 क्षेत्र के चोटपुर कॉलोनी में रहने वाले राकेश दास (32) ने सेक्टर 12 स्थित एक होटल में बीती रात कमरा बुक कराया था और देर रात को पुलिस को उसकी मौत की सूचना मिली। वर्मा ने बताया कि मौके पर पहुंची पुलिस ने देखा कि दास ने एक गैस सिलेंडर के माध्यम से मुंह पर मास्क लगाया हुआ था और उससे गैस मुंह में जा रही थी। नाइट्रोजन गैस शरीर में जाने की वजह से उसकी मौत हुई। उन्होंने बताया कि घटनास्थल से सुसाइड नोट मिला है, जिसमें लिखा है कि वह पहले रिलायंस जिओ कंपनी में काम करता था। पांच माह पूर्व उसकी नौकरी छूट गई, जिसकी वजह से उसे आर्थिक तंगी थी। उसकी पत्नी ने हाल ही में एक बच्चे को जन्म दिया और इस प्रक्रिया में भी काफी खर्च हुआ। सुसाइड नोट में लिखा है कि उसके ऊपर पांच लाख रुपए से ज्यादा का कर्जा है।

रिश्वत के पैसों को लेकर दरोगा और सिपाही के बीच हाथापाई

नोएडा के रबूपुरा क्षेत्र में अवैध खनन कराने के बदले माफिया से मिले रिश्वत के पैसों को लेकर दरोगा व सिपाही के बीच हाथापाई हो गई। मामला इस कदर बढ़ गया कि पुलिस के आला अधिकारियों को हस्तक्षेप करना पड़ा। अधिकारी की मध्यस्थता से फिलहाल मामले को रफादफा कर दिया गया है। पुलिस इस संबंध में कुछ भी कहने से इनकार कर रही है। रबूपुरा कोतवाली में मंगलवार रात को दरोगा को शिकायत मिली थी कि उनके बीट में आने वाले गांव में अवैध रूप से मिट्टी का खनन किया जा रहा है। इसकी सूचना पाकर पहुंचे दरोगा ने खनन कर रहे कुछ लोगों को मौके पर रंगेहाथ दबोच लिया। बताया जाता है कि दरोगा ने पकड़े गए खनन माफिया को कार्रवाई का डर दिखाकर उससे मोटी रकम वसूल ली और वहीं पर मामले को रफादफा कर दिया।

Next Story