Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Farmers Protest: किसानों से मिलने गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे विपक्षी दल, बोले- 13 लेवल की बैरिकेडिंग तो पाकिस्तान सीमा पर भी नहीं

Farmers Protest: सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर सुरक्षाबल की तैनाती जारी है। किसानों को सिंघु बॉर्डर पर विरोध-प्रदर्शन करते हुए आज 71 दिन हो गए हैं। संसद (Parliament) के दोनों सदनों में भी कृषि कानूनों को लेकर हंगामा जारी है।

Farmers Protest: किसानों से मिलने गाजीपुर बॉर्डर पहुंची विपक्षी दल, बोले- 13 लेवल की बैरिकेडिंग तो पाकिस्तान सीमा पर भी नहीं
X

किसानों से मिलने गाजीपुर बॉर्डर पहुंची विपक्षी दल

Farmers Protest नये कृषि कानूनों को लेकर केंद्र के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। दिल्ली के बॉर्डरों पर दो महीने से भी अधिक समय से डटे हुये है। वहीं किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुये दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने सुरक्षा का कड़ा इंतजाम कर रखा है। वहीं, सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर सुरक्षाबल की तैनाती जारी है। किसानों को सिंघु बॉर्डर पर विरोध-प्रदर्शन करते हुए आज 71 दिन हो गए हैं। संसद (Parliament) के दोनों सदनों में भी कृषि कानूनों को लेकर हंगामा जारी है।

आज कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी (Manish Tiwari) ने लोकसभा में कृषि कानूनों के मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव नोटिस दिया। उधर, विपक्षी दलों की 8-9 पार्टियां गाजीपुर बॉर्डर किसानों के आंदोलन को समर्थन देने पहुंची। इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर (Harsimrat Kaur) ने कहा कि हम आठ-दस पार्टियां किसानों से मिलने गाज़ीपुर बॉर्डर जा रही हैं जहां पर किले,13 लेवल की बैरिकेडिंग की गई है, इतना तो हिंदुस्तान के अंदर पाकिस्तान बॉर्डर पर भी नहीं है। लेकिन उन्हें पुलिस ने किसानों से मिलने नहीं दिया और वापस लौटा दिया।

हमें संसद में भी इस मुद्दे को उठाने का मौका नहीं दिया जा रहा है जो कि सबसे अहम मुद्दा है। उन्होंने कहा कि यहां 3 किलोमीटर तक बैरिकेडिंग लगी हुई हैं। ऐसे में किसानों की क्या हालत हो रही होगी। हमें भी यहां रोका जा रहा है हमें भी उनसे मिलने नहीं दे रहे। दिल्ली पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर पर कड़ी सुरक्षा के मद्देनजर जो किले लगाई हुई थी उन किलों को हटाई जा रही हैं।

Next Story