Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Farmers Protest: BKU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने राकेश टिकैत पर लगाया आंदोलन बेचने का आरोप, इस पार्टी से हो रही फंडिंग

यूपी के नोएडा में भारतीय किसान यूनियन (भानु) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने किसान नेता राकेश टिकैत पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत और उनके साथियों का हमेशा से यही काम रहा है, आंदोलन को बेचना और अपना पेट भरना। वे यहां आंदोलन कर रहे थे तब कांग्रेस की फंडिंग चल रही थी। वे बंगाल में ममता बनर्जी से पैसे लेने गए थे। इन सभी आरोप पर राकेश टिकैत का जवाब नहीं आया है।

Farmers Protest: BKU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने राकेश टिकैत पर लगाया आंदोलन बेचने का आरोप, इस पार्टी से हो रही फंडिंग
X

BKU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने राकेश टिकैत पर लगाया आंदोलन बेचने का आरोप

Farmers Protest नए कृषि कानूनों (Farm Laws) को लेकर केंद्र (Central Government) के खिलाफ किसानों का आंदोलन लंबे समय से जारी है। दिल्ली के बॉर्डरों (Delhi Border) पर धूप, बारिश और गर्मी प्रदर्शनकारी डटे हुए है। वहीं किसानों की मांग अभी तक नहीं मानी गई है। जिसके कारण केंद्र से गतिरोध बना हुआ है। इस बीच, यूपी के नोएडा (Ghazipur Border Of Noida) में भारतीय किसान यूनियन (भानु) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह (BKU National President Bhanu Pratap Singh) ने किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि राकेश टिकैत और उनके साथियों का हमेशा से यही काम रहा है, आंदोलन को बेचना और अपना पेट भरना।

वे यहां आंदोलन कर रहे थे तब कांग्रेस की फंडिंग चल रही थी। वे बंगाल में ममता बनर्जी से पैसे लेने गए थे। इन सभी आरोप पर राकेश टिकैत का जवाब नहीं आया है। लेकिन भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष के इस आरोप से आंदोलन को बड़ा नुकसान पहु़ंचने की आशंका है। वहीं, किसान नेता के रूप में उभरे राकेश टिकैत की लोकप्रियता काफी बढ़ी हुई है। उनकी कही हुई बात हजारों किसान मानते है। ऐसे में ये देखना होगा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह के इस बयान से प्रदर्शनकारियों पर क्या प्रभाव पड़ता है।

जबकि प्रदर्शनकारियों ने कहा है कि जब तक काला कानून वापिस नहीं होता वे घर वापस नहीं जाएंगे। इससे पहले, संयुक्त किसान मोर्चा ने महिला किसानों की शिकायतों और मुद्दों के समाधान के लिए शनिवार को समितियों का गठन किया। किसान संगठन ने एक बयान में कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर सभी प्रदर्शन स्थलों पर स्थापित समितियां शिकायतों का निपटारा करेंगी। टीकरी प्रदर्शन स्थल पर एक महिला कार्यकर्ता के कथित यौन शोषण की घटना सामने आने के कुछ दिन बाद मई में महिला सुरक्षा समिति के गठन की घोषणा की गई थी।

Next Story