Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Farmers Protest: किसानों के समर्थन में ITO मुख्यालय पर 'AAP' करेगी एक दिन का भूख हड़ताल, ये नेता रहेंगे मौजूद

Farmers Protest: गोपाल राय ने रविवार को जानकारी दी कि कल दिल्ली में ITO पार्टी मुख्यालय पर पार्टी के पदाधिकारियों, विधायकों और पार्षदों द्वारा सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक किसानों के समर्थन में सामूहिक उपवास किया जाएगा। आम आदमी पार्टी किसानों की मांगों के समर्थन में पूरी तरह से हर कदम पर किसानों के साथ खड़ी है।

Farmers Protest: किसानों के समर्थन में ITO मुख्यालय पर
X

 किसानों के समर्थन में ITO मुख्यालय पर 'AAP' करेगी एक दिन का भूख हड़ताल

(Farmers Protest) नये कृषि कानूनों को लेकर केंद्र के खिलाफ किसानों का विराध-प्रदर्शन जारी है। किसान संगठन पिछले 18 दिनों से दिल्ली के बॉर्डरों पर आंदोलन कर रहे है। किसानों के इस आंदोलन को 30 से भी अधिक पार्टियों का समर्थन मिल रहा है। ऐसे में दिल्ली सरकार बढ़-चढ़ किसानों का समर्थन कर रही है। जिसको लेकर दिल्ली सरकार में मंत्री और 'आप' विधायक गोपाल राय ने रविवार को जानकारी दी कि कल दिल्ली में ITO पार्टी मुख्यालय पर पार्टी के पदाधिकारियों, विधायकों और पार्षदों द्वारा सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक किसानों के समर्थन में सामूहिक उपवास किया जाएगा। आम आदमी पार्टी किसानों की मांगों के समर्थन में पूरी तरह से हर कदम पर किसानों के साथ खड़ी है।

इससे पहले, नए कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग-आठ को बंद करने की योजना के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने राष्ट्रीय राजधानी की हरियाणा से लगती सीमा पर चौकसी बढ़ा दी है। यह राजमार्ग गुरुग्राम से होकर गुजरता है। शहर की पुलिस ने शनिवार को अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती करके और ज्यादा संख्या में कंक्रीट के अवरोधकों लगाकर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यात्रियों को असुविधा न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए गए हैं। सिंघू और टिकरी बॉर्डर समेत राष्ट्रीय राजधानी के विभिन्न बॉर्डर पर पिछले 17 दिनों से हजारों प्रदर्शनकारी जमा हैं और इस बीच किसान संगठनों ने जयपुर-दिल्ली राजमार्ग बंद करने की घोषणा की है। किसान केंद्र सरकार से कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। किसान नेताओं ने शनिवार को अपनी मांगों पर कायम रहते हुए कहा कि वे सरकार से वार्ता को तैयार हैं लेकिन पहले तीन नये कृषि कानूनों को निरस्त करने पर बातचीत होगी। किसानों ने घोषणा की कि उनकी यूनियनों के प्रतिनिधि 14 दिसंबर को देशव्यापी प्रदर्शन के दौरान भूख हड़ताल पर बैठेंगे।

और पढ़ें
Next Story