Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

धनतेरस पर दिल्ली वालों को करना पड़ा जाम का सामना, वाहनों की लंबी कतार से लोग हुए परेशान

धनतेरस (Dhanteras) पर दिल्ली वालों ने जमकर खरीददारी की जिसकी वजह से लोगों को भारी जाम (Traffic jam) का सामना करना पड़ा। भारी संख्या में लोग खरीदारी (Shopping) करने बाजार पहुंचे हैं। जिससे कई इलाकों में भीषण जाम लगा है।

धनतेरस पर दिल्ली वालों को करना पड़ा जाम का सामना, वाहनों की लंबी कतार से लोग हुए परेशान
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

धनतेरस (Dhanteras) पर दिल्ली वालों ने जमकर खरीददारी की जिसकी वजह से लोगों को भारी जाम (Traffic jam) का सामना करना पड़ा। भारी संख्या में लोग खरीदारी (Shopping) करने बाजार पहुंचे हैं। जिससे कई इलाकों में भीषण जाम लगा है। लोगों को आवाजाही में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सड़कों पर गाड़ियों की संख्या बढ़ने से हर इलाके में जाम जैसी स्थिति हो गई है। कश्मीरी गेट बस अड्डे पर भारी जाम लगने से लोगों का बुरा हाल है। वहीं दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट कर कहा कि खजूरी कैरिजवे की ओर जाते समय नानकसर गुरुद्वारा के पास एक बस खराब है, इस मार्ग का प्रयोग करने से बचें। उधर, नोएडा से ग्रेटर नोएडा जाने वाले मार्ग पर फिल्मसिटी सेक्टर-16ए के सामने एक गाड़ी खराब हो गई है, जिसके चलते यातायात धीमी गति से चल रहा है।

कोरोना के मामले कम होते ही लोग बाजारों में खरीदारी को लेकर उत्साहित हैं। ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए तरह-तरह के ऑफर दिए जा रहे हैं। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए दिल्ली पुलिस ने भी कमर कस ली है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि भीड़-भाड़ वाली जगहों पर पेट्रोलिंग की जाएगी। दूसरी तरफ त्योहारों के बीच लोगों की लापरवाही और भीड़ का असर दिखाई देने लगा है। मंगलवार को राजधानी में 12 इलाकों को सील कर दिया है। यहां कोरोना संक्रमण के नए मामले मिले हैं। इन इलाकों में अगले 14 दिन के लिए सभी प्रकार की छूट रोक दी गई है। लोगों की निगरानी और कोविड नियमों का सख्ती से पालन कराने के लिए विभाग ने इन इलाकों में सिविल डिफेंस के जवानों को भी तैनात किया है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बीते सोमवार तक राजधानी में 86 इलाके कंटेनमेंट जोन में थे, लेकिन पिछले एक दिन में 12 नए इलाकों को सील करने के बाद इनकी कुल संख्या बढ़कर 98 हो चुकी है। इससे पहले 29 अक्तूबर तक राजधानी में कंटेनमेंट जोन की संख्या 93 थी, लेकिन इसके बाद हर दिन कंटेनमेंट जोन की संख्या में कमी आई और इनका आंकड़ा कम होकर 86 तक आ चुका था, लेकिन दैनिक संक्रमित मामलों में 16 मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद कंटेनमेंट जोन में भी इजाफा हुआ है। बढ़ते मामलों को लेकर भी सरकार चिंतित है।

Next Story