Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi School Reopen: स्कूल और कॉलेजों में बड़े बदलाव, पहले की तरह नहीं होगी व्यवस्था, छात्रों को मानने पड़ेंगे ये सख्त नियम

Delhi School Reopen: डीडीएमए की गाइडलाइंस के अनुसार, कोविड-19 नियमों के तहत एक समय पर कक्षा में छात्रों की सीमित मौजूदगी सुनिश्चित करते हुए स्कूलों को टाइम टेबल तैयार करना होगा। स्कूल और कॉलेज में क्षमता के आधार पर प्रति कक्षा अधिकतम 50 प्रतिशत छात्रों को बुलाया जा सकता है। दिल्ली के स्कूलों में लंच ब्रेक चरणबद्ध तरीके से हो ताकि एक समय पर अधिक भीड़ ना हो, लंच ब्रेक के लिए छात्रों को खुली जगह में भेजा जाए। कोविड-19 कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्रों और शिक्षकों को स्कूल तथा कॉलेज ना आने दें।

स्कूल और कॉलेज में बड़े बदलाव, पहले की तरह नहीं होगी व्यवस्था
X

Delhi School Reopen लंबे समय से बंद रहने के बाद आखिरकार एक सितंबर से दिल्ली के स्कूल और कॉलेजों (School And College Reopen from First September) को खोलने की अनुमति मिल गई है। स्कूलों को दो फेसों में खोलने की तैयारी है। पहले में कक्षा 9वीं से 12वीं कक्षा तक के लिए स्कूल खुलेंगे। वहीं दूसरे फेस में 8 सितंबर से कक्षा 6वीं से 8वीं तक के कक्षा खुलेंगे। जबकि कोरोना महामारी (Corona Pandemic) को देखते हुए छात्रों को स्कूल और कॉलेज आने के लिए अभिभावकों की इजाजत जरूरी होगी है। साथ ही स्कूल के मैनेजमेंट को परिसर और क्लास रूम में कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। स्कूलों में ऑफलाइन कक्षाओं के साथ-साथ ऑनलाइन कक्षाएं भी चलती रहेंगी।

इसके लिए दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने कुछ गाइडलाइंस जारी की हैं। डीडीएमए की गाइडलाइंस के अनुसार, कोविड-19 नियमों के तहत एक समय पर कक्षा में छात्रों की सीमित मौजूदगी सुनिश्चित करते हुए स्कूलों को टाइम टेबल तैयार करना होगा। स्कूल और कॉलेज में क्षमता के आधार पर प्रति कक्षा अधिकतम 50 प्रतिशत छात्रों को बुलाया जा सकता है। दिल्ली के स्कूलों में लंच ब्रेक चरणबद्ध तरीके से हो ताकि एक समय पर अधिक भीड़ ना हो, लंच ब्रेक के लिए छात्रों को खुली जगह में भेजा जाए। कोविड-19 कंटेनमेंट जोन में रहने वाले छात्रों और शिक्षकों को स्कूल तथा कॉलेज ना आने दें।

आपात स्थिति के लिए स्कूल, कॉलेज में आइसोलेशन रूम की स्थापना की जाए, नियमित रूप से विजिटर्स को आने से रोका जाए। आपको बता दें कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों का लगभग 100 प्रतिशत टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ कम से कम एक वैक्सीन ले चुका है। सभी स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थानों में कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन किया जाएगा।

Next Story