Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Rohini Court Shootout: दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, शूटआउट में शामिल टिल्लू गैंग का दो शातिर अपराधी गिरफ्तार

क्राइम ब्रांच ज्वाइंट सीपी आलोक कुमार ने कहा किअंतरराज्यीय गैंग में अभी ज़्यादातर टॉप लीडरशिप जेल के अंदर है, दिल्ली पुलिस ने बहुत व्यवस्थित तरीके से काम करके उन्हें जेल के अंदर किया है। हमने हर गैंग की एक लिस्ट तैयार की है और उस लिस्ट के हिसाब से उन पर लगातार काम होता है। उन्होंने कहा कि हमें कुछ इनपुट मिले हैं कि इनके एक-दो एसोसिएट बाहर भी बैठे हैं, उनके कार्यकलापों पर भी दिल्ली पुलिस काम कर रही है। इन गैंग के ​आपस में लिंक होते हैं जिसमें ये एक दूसरे को लॉजिस्टिक मुहैया कराते हैं।

Delhi Rohini Court Shootout: दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, शूटआउट में शामिल दो आरोपी गिरफ्तार
X

दिल्ली पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, शूटआउट में शामिल दो आरोपी गिरफ्तार

Delhi Rohini Court Shootout दिल्ली में आज पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। यहां रोहिणी कोर्ट में हुए शूटआउट के बाद दो आरोपी को गिरफ्तार (Two Arrested) किया गया है। इनकी पहचान विनय और उमंग के रूप में हुई है। बता दें कि रोहिणी कोर्ट में हुए शूटआउट में तीन लोगों की मौत हुई थी। जिसमें गैंगस्टर जितेंद्र गोगी समेत दो हमलावर मारे गए थे। ये हमलावर वकील के वेश में आए थे। पुलिस ने कोर्ट में लगे सीसीटीवी कैमरा की फुटेज के आधार पर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया है। क्राइम ब्रांच ज्वाइंट सीपी आलोक कुमार ने कहा किअंतरराज्यीय गैंग में अभी ज़्यादातर टॉप लीडरशिप जेल के अंदर है, दिल्ली पुलिस ने बहुत व्यवस्थित तरीके से काम करके उन्हें जेल के अंदर किया है। हमने हर गैंग की एक लिस्ट तैयार की है और उस लिस्ट के हिसाब से उन पर लगातार काम होता है। उन्होंने कहा कि हमें कुछ इनपुट मिले हैं कि इनके एक-दो एसोसिएट बाहर भी बैठे हैं, उनके कार्यकलापों पर भी दिल्ली पुलिस काम कर रही है। इन गैंग के ​आपस में लिंक होते हैं जिसमें ये एक दूसरे को लॉजिस्टिक मुहैया कराते हैं।

शूटआउट की योजना बनाने में चार लोग शामिल थे

पुलिस अधिकारियों के बताया कि रोहिणी कोर्ट शूटआउट की योजना बनाने में चार लोग शामिल थे जिनमें से दो हमलावरों को मौके पर ही मारे गए थे। दो हमलावर फरार चल रहे थे, जिन्हें अब पुलिस ने पकड़ा है। पुलिस ने बताया कि प्लान के हिसाब से उमंग को कोर्ट के बाहर गाड़ी लेकर खड़े रहना था ताकि हमले के बाद सभी वहां से भाग सके और बाकी तीन हमलावरों को कोर्ट रूम में जाना था। हालांकि, प्लान फेल होने की वजह से उमंग अकेले ही गाड़ी लेकर फरार हो गया। हमले के लिए कोर्ट जाने से पहले चारों आरोपी एक मॉल में मिले भी थे।

आरोपी ने बताया कि 2 साल से गैंगस्टर टिल्लू से जुड़ा है

पूछताछ के दौरान उमंग ने बताया है कि वो 2 साल से गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया के साथ जुड़ा हुआ है और उसी के लिए काम करता है। वहीं उमंग के तार इस मामले से इसलिए जुड़े हैं क्योंकि 20 सितम्बर को रोहिणी कोर्ट से 3 किलोमीटर दूर हैदरपुर इलाक़े में एक फ्लैट में दो शूटर रुके थे। वो फ्लैट उमंग का ही था। इसके अलावा घटना वाले दिन कोर्ट तक दोनो शूटरों को पहुंचाने का जिम्मा भी उमंग ने अपने ऊपर ही ले रखा था। उसने ही गाड़ी से दोनों को रोहिणी कोर्ट पर छोड़ा था।

पूरी घटना के पीछे टिल्लू गैंग का हाथ

इस पूरी घटना के पीछे टिल्लू गैंग का हाथ था। जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक रोहिणी कोर्ट शूटआउट में शामिल दोनों शूटर को दिल्ली के मंडोली जेल से टिल्लू ने फ़ोन कर जितेंद्र को ख़त्म करने का हुकुम दिया था। घटना वाले दिन भी वो लगातार शूटरों को निर्देश दे रहा था। उस फरमान के बाद ही उमंग यादव सक्रिय हुआ था और उसने दोनों शूटरों की काफी मदद की थी।

Next Story