Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Riots: दिल्ली कोर्ट में दंगों की जांच पर बार-बार सवाल उठने के बाद राकेश अस्थाना ने उठाया बड़ा कदम, पढ़ें पूरी खबर

पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन सेल (Special Investigation Cell) की टीम का गठन किया है। इसमें सेवानिवृत्त एसीपी केजी त्यागी को दंगा मामलों की निगरानी एवं अदालती मामलों को देखने के लिए सलाहकार नियुक्त किया गया है। जबकि सेंट्रल जोन के स्पेशल कमिश्नर इसके अध्‍यक्ष होंगे। इसके साथ ही सदस्य के तौर पर संयुक्त पुलिस आयुक्त (पूर्वी रेंज) और उत्तर-पूर्व जिले के डीसीपी और अतिरिक्त डीसीपी को जगह दी गई है।

Delhi Riots: दिल्ली कोर्ट में दंगों की जांच पर बार-बार सवाल उठने के बाद राकेश अस्थाना ने उठाया बड़ा कदम, पढ़ें पूरी खबर
X

दिल्ली कोर्ट में दंगों की जांच पर बार-बार सवाल उठने के बाद राकेश अस्थाना ने उठाया बड़ा कदम

Delhi Riots दिल्ली में पिछले साल फरवरी माह में हुए दंगों पर दायर की याचिका और आरोपियों पर सुनवाई चल रही है। वहीं दिल्ली कोर्ट (Delhi Court) में कई बार इस हिंसा की जांच को लेकर कई बार सवाल उठ चुके है। वहीं कोर्ट ने हिंसा की जांच को लेकर कई बार असंतुष्टि जाहिर की है। जबकि इस संबंध में दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को कई बार फटकार भी लगा चुकी है। कोर्ट ने मांग की थी कि दिल्ली दंगों की सही जांच के लिए कमिश्नर राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana)को दखल देने की जरूरत है।

अब इस सिलसिले में पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन सेल (Special Investigation Cell) की टीम का गठन किया है। इसमें सेवानिवृत्त एसीपी केजी त्यागी को दंगा मामलों की निगरानी एवं अदालती मामलों को देखने के लिए सलाहकार नियुक्त किया गया है। जबकि सेंट्रल जोन के स्पेशल कमिश्नर इसके अध्‍यक्ष होंगे। इसके साथ ही सदस्य के तौर पर संयुक्त पुलिस आयुक्त (पूर्वी रेंज) और उत्तर-पूर्व जिले के डीसीपी और अतिरिक्त डीसीपी को जगह दी गई है।

यह सेल सेंट्रल जोन के स्पेशल कमिश्नर के नेतृत्‍व में काम करेगी। जबकि एसआईसी का गठन उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगों को लेकर दर्ज मामलों की जांच को तेज करने के लिए किया गया है। बता दें कि पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने दिल्ली दंगों से संबंधित मामलों की जांच में तेजी लाने के साथ दोषियों को जल्द सजा दिलाने के लिए यह निर्णय लिया है। इसके अलावा इस कमेटी के बनने से कोर्ट में भी पुलिस की किरकिरी होने से बचेगी, क्‍योंकि अब हर मुद्दे को कई सीनियर अधिकारी देखेंगे।

Next Story