Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Pollution: राघव चड्ढा ने कहा, पड़ोसी राज्यों के कारण दिल्ली की हवा होगी जहरीली

राघव चड्ढा ने पंजाब हरियाणा निशाना साधते हुये कहा कि यह राज्य अपने किसानों को पराली जलाने से रोक नहीं पा रहे है। यह दिल्ली के लोगों के लिए लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना व्यवहार है और दिल्लीवासियों के लिए बेहद चिंता जनक है।

Delhi Pollution: राघव चड्ढा ने कहा, पड़ोसी राज्यों के कारण दिल्ली की हवा होगी जहरीली
X
आप विधायक राघव चड्ढा की फाइल फोटो। 

पंजाब और हरियाणा में जलाये जा रहे पराली को लेकर आम आदमी पार्टी के एमएलए राघव चड्ढा ने कड़े शब्दों में निंदा करते हुये दिल्ली के लोगों के लिए इसे खतरनाक बताया है। उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली के लोग फिर से जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर होंगे। क्योंकि पंजाब और हरियाणा ने किसानों ने अपने खेतों में पराली जलाना शुरू कर दिया है और इसका असर दिल्ली पर पड़ने लगा है।

इसलिए आज दिल्ली सुबह दिल्ली की हवा खराब श्रेणी में पहुंच गई थी। आपको बता दें कि दिल्ली में हर साल सर्दियों में दम घोटू हवा में सांस लेते है। जिसके बाद एक्यूआई लेवल बहुत ही खतरनाक श्रेणी में पहुंच जाता है। राघव चड्ढा ने पंजाब हरियाणा निशाना साधते हुये कहा कि यह राज्य अपने किसानों को पराली जलाने से रोक नहीं पा रहे है।

यह दिल्ली के लोगों के लिए लापरवाही और गैर जिम्मेदाराना व्यवहार है और दिल्लीवासियों के लिए बेहद चिंता जनक है। उनके स्वास्थ्य पर इसका बुरा असर पड़ेगा। वहीं राघव चड्ढा ने कहा कि पंजाब और हरियाणा में बड़े पैमाने पर पराली जलाये जा रहे है और इस मामले में कई रिपोर्ट दर्ज किये जा चुके है।

सीपीसीबी ने दिल्ली सरकार से कहा, प्रदूषण पहले वाले गतिविधियों पर तुरंत कार्रवाई करे

सीपीसीबी ने दिल्ली सरकार को एक पत्र लिखकर दिल्ली में किये जाने वाले कार्य सूचीबद्ध किये और उसे तीन डंपिंग स्थलों भलस्वा, गाजीपुर अैर ओखला में मिश्रित ठोस अपशिष्ट डाले जाने पर जल्द कदम उठाने को कहा। उसने कहा कि दिल्ली में प्रदूषण रोकने के लिए कुछ कार्य पूरे हो गए हैं लेकिन और किये जाने की जरूरत है।

सीपीसीबी ने दिल्ली में सर्दियों के दौरान वायु प्रदूषण की समस्या पर चिंता जताई है। उन्होंने दिल्ली सरकार से निर्माण एवं निर्माण को गिराने संबंधी गतिविधियां और खुले में कूड़ा डालने जैसे प्रमुख प्रदूषण स्रोतों पर तत्काल कार्रवाई करने को कहा है। सीपीसीबी ने राजधानी में 13 सबसे अधिक प्रदूषित स्थलों में कार्ययोजना में कमी का उल्लेख करते हुए कहा कि वजीरपुर के बारे में अपडेट जानकारी प्राप्त नहीं हुई है जबकि प्रदूषित स्थलों को हरित बनाने और सड़कें पक्की करने के लक्ष्य का उल्लेख नहीं किया गया है।

और पढ़ें
Next Story