Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Pollution: इस साल दिल्ली को मिलेगी प्रदूषण से राहत, बायो-डीकंपोजर घोल बनाने की प्रक्रिया शुरू, CM केजरीवाल ने दी अहम जानकारी

Delhi Pollution: सीएम केजरीवाल ने कहा कि पिछली बार दिल्ली में लगभग 300 किसानों ने बायो डी-कंपोजर घोल अपनाया था और 1950 एकड़ में इसे डाला गया था। इस बार 4200 एकड़ में येघोल डाला जा रहा है और 844 किसान इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार यहां के किसानों को मुफ्त में बायो डी-कंपोजर का छिड़काव करके दे रही है।

Delhi Pollution: इस साल दिल्ली को मिली प्रदूषण से राहत, बायो-डीकंपोजर घोल बनाने की प्रक्रिया शुरु, CM केजरीवाल ने दी अहम जानकारी
X

बायो-डीकंपोजर घोल बनाने की प्रक्रिया शुरु, CM केजरीवाल ने दी अहम जानकारी

Delhi Pollution दिल्ली में इस साल प्रदूषण से निपटने के लिए जोर शोर से तैयारी की जा रही है। प्रदूषण का सबसे पहला कारण पराली (Prali) का धुंआ है। जिस पर काबू पाना बहुत ज्यादा जरूरी है। इस क्रम में दिल्ली के नजफ़गढ़ केंद्र पर पूसा इंस्टीट्यूट (Pusa Institute Of Technology) द्वारा तैयार बायो डी-कम्पोजर (Bio Decomposer) का घोल बनाने काम आज से शुरू किया जा रहा है। इस बारे में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने आज जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि घोल तैयार होने के बाद यहां खेतों में लगभग 4200 एकड़ जमीन पर निःशुल्क छिड़काव किया जाएगा। इस दौरान केजरीवाल के साथ दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Delhi Environment Minister Gopal Rai) मौजूद रहे।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि पिछली बार दिल्ली में लगभग 300 किसानों ने बायो डी-कंपोजर घोल अपनाया था और 1950 एकड़ में इसे डाला गया था। इस बार 4200 एकड़ में येघोल डाला जा रहा है और 844 किसान इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार यहां के किसानों को मुफ्त में बायो डी-कंपोजर का छिड़काव करके दे रही है। वहीं अन्य राज्यों के किसानों को भी अपनी राज्य सरकारों से मांग करनी चाहिए की उनके खेतों में भी बायो डीकंपोजर का छिड़काव करवाए। ये बेहद सस्ता और कारगर तरीका है।

इससे पहले, गोपाल राय ने कहा था कि दिल्ली में सभी औद्योगिक इकाइयां पीएनजी द्वारा संचालित हैं। एनसीआर में चलने वाले औद्योगिक इकाइयां भी पीएनजी द्वारा संचालित हों तांकि बढ़ते प्रदूषण को कम किया जा सके। साथ ही दिल्ली में सार्वजनिक परिवहन सीएनजी द्वारा संचालित है। केंद्र एवं संबंधित राज्य सरकारों से अनुरोध है कि प्रदूषण को रोकने के लिए एनसीआर के जिलों में सार्वजनिक एवं वाणिज्यिक वाहनों को सीएनजी में बदलना सुनिश्चित किया जाए।

Next Story