Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Pollution: EDMC का फैसला- प्रदूषण से निपटने के लिए स्पेशल टीमों का किया गठन, आनंद विहार बना 'हॉटस्पॉट'

Delhi Pollution: पिछले दो दिन में पराली जलाने की घटनाओं में वृद्धि होने के कारण दिल्ली में वायु गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई। अधिकारियों ने कहा कि शहर की हवा में प्रदूषण कारक तत्वों में से 14 प्रतिशत पराली जलाने की वजह से हैं। दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 प्रमुख प्रदूषण कारक तत्व है जिसकी वजह से वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहद खराब श्रेणी में दर्ज किया गया।

Delhi Pollution: EDMC का फैसला- प्रदूषण से निपटने के लिए स्पेशल टीमों का किया गठन, आनंद विहार बना
X

EDMC का फैसला- प्रदूषण से निपटने के लिए स्पेशल टीमों का किया गठन

Delhi Pollution दिल्ली-एनसीआर (Delhi NCR) में प्रदूषण का कहर दिखने लगा है। बीते दिन दिल्ली समेत आस-पास के इलाकों में प्रदूषण का लेवल काफी बढ़ गया था। यहां वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 500 से ज्यादा पहुंच गया था। इसका मतलब दिल्ली की हवा गंभीर श्रेणी में दर्ज की गई। इसका कारण पड़ोसी राज्यों में किसानों द्वारा पराली (Stubble Burning) जलाना है। जिसका जहरीला धुंआ अब दिल्ली-एनसीआर में आने लगा है। इससे यहां की हवा बेहद खराब हो गई है। इस बीच, पूर्वी दिल्ली नगर निगम (EDMC) ने बड़ा फैसला लिया है। उन्होंने विभिन्न विभागों से लिये गये अधिकारियों की वार्ड-वार टीमों का गठन किया गया है, ताकि प्रदूषण से निपटने के लिए नियमों के अनुपालन को सुनिश्चित किया जा सके। इसमें मुख्य ध्यान आनंद विहार (Anand Vihar) के 'हॉटस्पॉट' (Hot Spot) इलाके पर दिया गया है।

कई विभागों को मिलाकर 64 टीमों का किया गया गठन

उन्होंने बताया कि कार्य विभाग, पर्यावरण प्रबंधन सेवाएं विभाग (डीईएमएस) और बागवानी विभाग सहित अन्य विभागों के सदस्यों की कुल 64 टीमों का गठन किया गया है। अग्रवाल ने बताया कि नियमित रूप से निरीक्षण करने और उसके अनुरूप कार्रवाई करने के लिए ये टीमें, करीब एक हफ्ते पहले गठित की गईं। ये विशेष टीमें प्रदूषण से निपटने के लिए नियमों के अनुपालन को सुनिश्चित करेंगी। नियमों के उल्लंघन में निर्माण या भवनों आदि को ध्वस्त करने के स्थल को परदे से नहीं ढंकने से धूल प्रदूषण होना, पत्तियों और कचरा या अन्य कूड़ा को जलाना आदि शामिल हैं।

पराली जलाने की घटनाओं में वृद्धि

पिछले दो दिन में पराली जलाने की घटनाओं में वृद्धि होने के कारण दिल्ली में वायु गुणवत्ता बेहद खराब श्रेणी में दर्ज की गई। अधिकारियों ने कहा कि शहर की हवा में प्रदूषण कारक तत्वों में से 14 प्रतिशत पराली जलाने की वजह से हैं। दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 प्रमुख प्रदूषण कारक तत्व है जिसकी वजह से वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहद खराब श्रेणी में दर्ज किया गया। रविवार को बारिश हो सकती है जिससे हवा की गुणवत्ता में सुधार होने और खराब श्रेणी में रहने की उम्मीद है।

Next Story