Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Pollution: दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज, जानें आज का AQI

Delhi Pollution: केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज की गई। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) सुबह नौ बजकर पांच मिनट पर 202 था। सोमवार को अधिकतम तापमान 40.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था, जो 31 मार्च 1945 के बाद से मार्च में सबसे अधिक तापमान है।

Delhi Pollution: दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज, जानें आज का AQI
X

दिल्ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज

Delhi Pollution दिल्ली में हवा की गति रूकने के कारण प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगा है। प्रदूषण का लेवल (Pollution Level) खराब श्रेणी में दर्ज कर किया गया है। वहीं दिल्ली के लोग खराब वातावरण में फिर से सांस लेने के लिए मजबूर हो रहे है। मौसम विभाग (IMD) का कहना है कि आसमान साफ रहने के कारण गर्मी के साथ-साथ आने वाले दिनों में प्रदूषण का स्तर और बढ़ सकता है। एक बार फिर से दिल्ली की हवा जहरीली हो सकती है।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के आंकड़ों के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज की गई। वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) सुबह नौ बजकर पांच मिनट पर 202 था। सोमवार को अधिकतम तापमान 40.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया था, जो 31 मार्च 1945 के बाद से मार्च में सबसे अधिक तापमान है।

मौसम विभाग ने आज दिल्ली में न्यूनतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान जताया है जबकि अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस रहने की आशंका जताई गई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 201 से 300 के बीच के एक्यूआई को खराब, 301 से 400 को बहुत खराब और 401 से 500 को गंभीर श्रेणी में माना जाता है, जबकि 500 से ज्यादा का एक्यूआई अत्यंत गंभीर श्रेणी में आता है।

प्रदूषण में हर साल आ रही कमी

विज्ञान एवं पर्यावरण केंद्र (सीएसई) की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि लंबे समय से देखी जा रही प्रवृत्ति से पता चलता है कि दिल्ली में प्रदूषण पर अंकुश लगा है और पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 2.5 का वार्षिक स्तर हर साल गिर रहा है। एक रिपोर्ट में रूपरेखा दी गई है कि राजधानी और एनसीआर को क्षेत्र में वायु प्रदूषण कम करने के लिए क्या करना चाहिए। इसमें उठाए जाने वाले कदमों में खेती के तरीके में बदलाव से लेकर कम पराली जलाने की बात की गई है।

Next Story