Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Pollution: दिल्ली में प्रदूषण फैलाने वाले 150 स्थानों की पहचान, पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने किया 'Green Delhi App' लॉन्च

Delhi Pollution: गोपाल राय ने ऐप के 'आईओएस वर्ज़न' को जारी करते हुए कहा कि प्राप्त 27 हजार शिकायतों में से 23 हजार से अधिक का निपटारा कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर शिकायतें नगर निगमों, दिल्ली विकास प्राधिकरण और लोक निर्माण विभाग से संबंधित थीं। राय ने कहा कि ऐप पर मिली शिकायतों के आधार पर, हमने ऐसे 150 स्थानों की पहचान की है, जहां से प्रदूषण फैलने की सबसे अधिक शिकायतें मिली हैं।

Delhi Pollution: दिल्ली में प्रदूषण फैलाने वाले 150 स्थानों की पहचान, पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने किया
X

दिल्ली में प्रदूषण फैलाने वाले 150 स्थानों की पहचान

Delhi Pollution दिल्ली में प्रदूषण से निपटने की तैयारियां जोरों से चल रही है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के शीत कालीन कार्य योजना (Winter Action Plan) की घोषणा के बाद आज दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय (Delhi Environment Minister Gopal Rai) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके अहम जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि सरकार ने 'ग्रीन दिल्ली' ऐप पर मिली शिकायतों के आधार पर ऐसे 150 स्थानों की पहचान की है, जहां प्रदूषण सबसे अधिक फैलता है। बता दें कि प्रदूषण विरोधी गतिविधियों की निगरानी एवं समन्वय के लिए शहर ने पिछले साल 'ग्रीन वॉर रूम' और प्रदूषण करने वाली गतिविधियों से संबंधित शिकायतों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए 'ग्रीन दिल्ली' ऐप लॉन्च किया था।

27 हजार शिकायतों में से 23 हजार से अधिक का निपटारा

मंत्री ने ऐप के 'आईओएस वर्ज़न' को जारी करते हुए कहा कि प्राप्त 27 हजार शिकायतों में से 23 हजार से अधिक का निपटारा कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर शिकायतें नगर निगमों, दिल्ली विकास प्राधिकरण और लोक निर्माण विभाग से संबंधित थीं। राय ने कहा कि ऐप पर मिली शिकायतों के आधार पर, हमने ऐसे 150 स्थानों की पहचान की है, जहां से प्रदूषण फैलने की सबसे अधिक शिकायतें मिली हैं।

इन स्थानों से फैलता है सबसे ज्यादा प्रदूषण

केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण ने पहले दिल्ली में 13 ऐसे स्थानों की पहचान की थी, जहां प्रदूषण सबसे अधिक फैलता है। ये स्थान रोहिणी, द्वारका, ओखला फेज -2, पंजाबी बाग, आनंद विहार, विवेक विहार, वजीरपुर, जहांगीरपुरी, आर के पुरम, बवाना, मुंडका, नरेला और मायापुरी थे। वायु प्रदूषण के रीयल-टाइम सोर्स की मिलेगी सटीक जानकारी, तकनीक को लेकर दिल्ली सरकार और आईआईटी कानपुर के बीच हुआ समझौता।

Next Story