Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली-एनसीआर में बिना लाइसेंस नहीं बेच सकेंगे धूम्रपान और तंबाकू जैसे उत्पाद, साथ ही पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज

अपर मुख्य सचिव नगर विकास डॉ. रजनीश दुबे ने शासनादेश जारी कर दिया है। नगर विकास विभाग ने इसके लिए तंबाकू उत्पादन लाइसेंस शुल्क का निर्धारण, विनियमन और नियंत्रण एवं अनुज्ञप्ति शुल्क उपविधि-2021 का प्रारूप जारी कर दिया है। नगर निगमों को इसे बनाते हुए अपने यहां बोर्ड से पास कराना होगा। इसके बाद इसे लागू किया जाएगा।

दिल्ली-एनसीआर में बिना लाइसेंस नहीं बेच सकेंगे धूम्रपान और तंबाकू जैसे उत्पाद, साथ पढ़ें नोएडा की टॉप न्यूज
X

हरियाणा में गुटका, पान मसाला और तम्बाकू पर लगा प्रतिबंध

दिल्ली-एनसीआर (Delhi NCR) में धूम्रपान और तंबाकू जैसे उत्पादों को बेचने के लिए यूपी सरकार (Yogi Government) ने बड़ा आदेश पारित किया है। आदेश के मुताबिक, बिना लाइसेंस (Licence) के धूम्रपान और तंबाकू जैसे उत्पादों (Smoking And Tobacco) को बेचना गैर कानूनी होगा। गाजियाबाद और मेरठ सहित उत्तर प्रदेश के 16 शहरों में अब बीड़ी, सिगरेट या तंबाकू जैसे उत्पादों को बेचने के लिए दुकानदारों को लाइसेंस लेना होगा। लखनऊ नगर निगम में यह व्ययवस्था पहले से लागू है। जल्द ही अलीगढ़, अयोध्या, आगरा, कानपुर, गोरखपुर, वृंदावन-मथुरा, वाराणसी, प्रयागराज, झांसी, सहारनपुर, मुरादाबाद, फिरोजाबाद, बरेली व शाहजहांपुर में इसे लागू किया जा रहा है। अपर मुख्य सचिव नगर विकास डॉ. रजनीश दुबे ने शासनादेश जारी कर दिया है। नगर विकास विभाग ने इसके लिए तंबाकू उत्पादन लाइसेंस शुल्क का निर्धारण, विनियमन और नियंत्रण एवं अनुज्ञप्ति शुल्क उपविधि-2021 का प्रारूप जारी कर दिया है। नगर निगमों को इसे बनाते हुए अपने यहां बोर्ड से पास कराना होगा। इसके बाद इसे लागू किया जाएगा।

यमुना एक्सप्रेस-वे पर सड़क हादसे में तीन लोगों की मौत

नोएडा में यमुना एक्सप्रेस-वे पर रविवार तड़के एक सड़क हादसे में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गयी और दो अन्य घायल हो गए। घायलों की हालत नाजुक बनी हुई है। मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस आयुक्त आलोक सिंह के मीडिया प्रभारी ने बताया कि रविवार सुबह पांच बजे के करीब सोनू, उसके पिता प्रताप सिंह, मां ऊषा देवी, उसके मामा संतोष कुमार और सतपाल सिंह एक कार में जनपद औरैया के बिधूना से यमुना एक्सप्रेस- वे के रास्ते दिल्ली जा रहे थे। उन्होंने बताया कि बीटा-2 थाना क्षेत्र के यमुना एक्सप्रेस-वे पर सड़क किनारे खराब खड़े एक ट्रक से उनकी कार जा टकराई। इस घटना में पांचों गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें उपचार के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर डॉक्टरों ने संतोष, उषा देवी तथा सतपाल को मृत घोषित कर दिया।

नोएडा में सबसे बड़ी चोरी का खुला राज

गौतमबुद्ध नगर जिले की सबसे बड़ी चोरी में कई राज खुलने लगे हैं। नोएडा पुलिस की जांच में पता चला है कि राममणि पांडे और किशलय पांडे के घर से चोरी हुआ सोना कालेधन के रूप में रखा हुआ था। यह खुलासा होने के बाद आयकर विभाग की टीम ने भी शनिवार को जांच शुरू कर दी है। वहीं, एडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि ऐसी आशंका है कि फ्लैट से मिला सोना बाप-बेटे विदेश से तस्करी कर भारत लाए थे। ग्रेनो के सिल्वर सिटी सोसाइटी के फ्लैट से 23 सितंबर 2020 को चोरों ने 36 किलो सोना और छह करोड़ से ज्यादा रुपये चोरी किए थे। पुलिस ने बताया कि फ्लैट मालिक किशलय ने गोपाल नाम के व्यक्ति को फ्लैट की सुरक्षा के लिए तैनात किया था। गोपाल ने नोएडा व गाजियाबाद के साथियों की मदद से चोरी की साजिश रची। चोरों के बीच धन के बंटवारे को लेकर विवाद हो गया था। इसके बाद पुलिस ने शुक्रवार को छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों से 13 किलो सोना, एक करोड़ की संपत्ति के कागजात व 57 लाख रुपये मिले।

चोरों ने व्यापारी के घर से लाखों का माल उड़ाया

गाजियाबाद के कविनगर डी-ब्लॉक में चोरों ने कारोबारी के मकान का कोना-कोना खंगालकर लाखों रुपये के माल पर हाथ साफ कर दिया। पीड़ित कारोबारी के मुताबिक चोरों ने रातभर तसल्ली से उनका घर खंगाला। एसी में सोए और फिर घर की टोंटी तक खोलकर ले गए। शुक्रवार शाम उनकी बेटी मकान देखने गई तो लाइट खुली देख घटना का पता चला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने मौका-मुआयना करने के बाद मामले की जांच शुरू कर दी है। कविनगर डी-ब्लॉक निवासी दिनेश चौधरी प्लाइवुड कारोबारी हैं। वह हापुड़ रोड पर अपना कारोबार करते हैं। दिनेश चौधरी ने बताया कि कुछ दिनों पहले वह और उनका बेटा कोरोना संक्रमित हो गए थे, जिसके चलते वह कविनगर के मकान में ताला लगाकर राजनगर के राजकुंज स्थित अपने दूसरे मकान में शिफ्ट हो गए थे।

बुजुर्ग दंपती की हत्या का पुलिस ने किया खुलासा

गाजियाबाद के बलराम नगर डी-ब्लॉक में बुजुर्ग दंपती की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हत्याकांड में बुजुर्ग दंपती के बेटे को गिरफ्तार किया है। आरोपी सारी संपति कब्जाना चाहता था। छोटे भाई गौरव की दो साल पहले मौत हुई थी। माता-पिता उसके बच्चों को संपत्ति का अहम हिस्सा देना चाहते थे। जांच में सामने आया है कि आरोपी रवि 20 साल से अपने पिता सुरेंद्र से बातचीत नहीं करता था। पूछताछ में रवि ने बताया कि उसकी अपने पिता से पटती नहीं थी। वह मां से बोलता था लेकिन पिता से नहीं बोलता था। मृतक दंपती अपने दूसरे बेटे की बहू को ज्यादा संपत्ति देने की बात कर रहे थे। मां भी सुरेंद्र की बातों में आकर बेटे रवि को डांट देती थी। सुबह 10:00 बजे आरोपी ने दोनों की हत्या की थी। हत्या के बाद वह चला गया था।

Next Story