Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली हाइकोर्ट का आदेश, केंद्र ऑक्सीजन के ट्रांसपोर्ट के लिए अलग से तैयार करे कॉरिडोर

हाईकोर्ट में केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार पर मामले को लेकर गंभीर आरोप लगाए है। हाईकोर्ट ने कहा कि हम सभी अन्य पक्षों को निर्देश देते हैं कि आदेशों का कड़ाई से पालन हो। इस आदेश की अवहेलना को गंभीरता से लिया जाएगा और बड़ी संख्या में लोगों की मौत की संभावना बनेगी। ऐसा होने पर गंभीर माना जाएगा।

दिल्ली हाइकोर्ट का आदेश, केंद्र ऑक्सीजन के ट्रांसपोर्ट के लिए अलग से तैयार करे कॉरिडोर
X

दिल्ली हाइकोर्ट का आदेश

shortage Of Oxygen Cylinder दिल्ली में ऑक्सीजन न होने के कारण कोरोना मरीजों की सांसों पर संकट आन पड़ा है। जिसको लेकर अस्पतालों ने दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High court) का रुख किया है, ताकि तुरंत मदद मिल सके। दिल्ली के सरोज सुपर स्पेशलिटी अस्पताल (Saroj Super Specialty Hospital) का कहना है कि उसके अस्पताल में 172 में से 64 मरीजों को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। इसके बाद मैक्स अस्पताल (Max Hospital) ने भी हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) से उन अस्पतालों की लिस्ट मांगी। जिनमें ऑक्सीजन की कमी है। केंद्र (Central govt) ने कहा कि लिस्ट अभी देने के बजाय वो कुछ देर बाद भी दे सकते हैं। कोर्ट ने कहा कि दिल्ली सरकार कुछ समय बाद भी रिपोर्ट दाख़िल कर सकती है।

हाई कोर्ट में केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार पर मामले को गंभीर आरोप लगाए है। ऑक्सीजन को लेकर हाईकोर्ट ने कहा कि हम सभी अन्य पक्षों को निर्देश देते हैं कि आदेशों का कड़ाई से पालन हो। इस आदेश की अवहेलना को गंभीरता से लिया जाएगा और बड़ी संख्या में लोगों की मौत की संभावना बनेगी और ऐसा होने गंभीर आपराधिक एक्शन लिया जाएगा। यह अपराध माना जाएगा। हाई कोर्ट ने कहा कि हम सभी अन्य पक्षों को निर्देश देते हैं कि वह अपने आदेशों का पालन करें। साथ ही केंद्र टैंकरों के लिए अतिरिक्त संरक्षण मुहैया कराए। कोर्ट ने केंद्र से कहा कि केंद्र ऑक्सीजन के ट्रांसपोर्ट के लिए एक अलग कॉरिडोर तैयार करे।

कोर्ट में सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि हमें कल करीब 80-82 मीट्रिक टन ऑक्सीजन प्राप्त हुआ और आज हमें एक मीट्रिक टन भी प्राप्त नहीं हुआ। केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि दिल्ली सरकार बेवज़ह इस मामले को सनसनीखेज बनाने में लगी है, इस मामले में संवेदनशील होने की जरूरत है, न की ट्वीट करके या सोशल मीडिया पर पैनिक फ़ैलाकर। इस पर दिल्ली सरकार ने कहा कि हरियाणा से न देकर राउलकेला से ऑक्सीजन क्यों दी जा रही है। दिल्ली में ऑक्सीजन का संकट अभी टला नहीं है।

Next Story