Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना को लेकर दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट को बताया, हर गर्भवती महिला का टेस्ट जरूरी नहीं

हाईकोर्याट ने कहा कि चिकाकर्ता के आवेदन को संबोधित करने के लिए दिल्ली सरकार द्वारा पर्याप्त कदम उठाए गए हैं।

कोरोना को लेकर दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट को बताया, हर गर्भवती महिला का टेस्ट जरूरी नहीं
X
कोरोना जांच टेस्ट

दिल्ली सरकार ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट को बताया है कि किसी भी गर्भवती महिला को तब तक कोविड-19 टेस्ट कराना अनिवार्य नहीं है, जब तक कि उसमें कोविड-19 के लक्षण या उसके किसी कोरोना मरीज के संपर्क में आने की पुष्टि नहीं हो जाती है। इससे पहले हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से यह स्पष्ट करने के लिए कहा था कि क्या डिलीवरी के लिए अस्पताल में जाने वाली गर्भवती महिलाओं को कोविड-19 टेस्ट कराना आवश्यक है क्योंकि वह रिपोर्ट आने का इंतजार नहीं कर सकती।

दिल्ली सरकार ने कहा कि आईसीएमआर के दिशा निर्देशों के अनुसार, यदि कोई गर्भवती महिला कोविड-19 टेस्ट के मानदंडों को पूरा करती है तो उसका टेस्ट किया जाना चाहिए, लेकिन उसके टेस्ट के कारण प्रसूति प्रबंधन के काम में देरी नहीं होगी।

चीफ जस्टिस डी.एन. पटेल पीठ ने दिल्ली सरकार की बात सुनने के बाद कहा कि याचिकाकर्ता के आवेदन को संबोधित करने के लिए दिल्ली सरकार द्वारा पर्याप्त कदम उठाए गए हैं। पीठ ने कहा कि हम मामले में कोई और निर्देश जारी नहीं कर सकते हैं। इसलिए याचिका का निपटारा किया जाता है।

40 दिन बाद डॉक्टर दोबारा हुआ संक्रमित

नोएडा में एक अस्पताल के डॉक्टर को 40 दिन में दोबारा कोरोना संक्रमित पाए गये है। पहले संक्रमित होने के बाद वह स्वस्थ हो गए थे लेकिन वापिस लौटे के बाद उनकी ड्यूटी अस्पताल के एक विभाग में लगाई गई थी, जहां वह एक सप्ताह पहले दोबारा संक्रमित हो गए।

Next Story
Top