Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Fruad: करोड़ो का जाली बिल बनाने वाली 23 कंपनियों का भंडाफोड़, तीन आरोपी गिरफ्तार

Delhi Fruad: जीएसटी अधिकारियों ने 551 करोड़ रुपये के जाली बिल निकालने और गलत तरीके से 91 करोड़ रुपये का इनपुट कर क्रेडिट आगे देने के मामले छापेमारी की गई है। स्वर्गीय दिनेश गुप्ता, शुभम गुप्ता, विनोद जैन और योगेश गोयल जाली बिल बनाने के धंधे से जुड़े थे। इन आरोपियों ने खुद अपना जुर्म कबूल किया है।

Delhi Fruad: करोड़ो का जाली बिल बनाने वाली 23 कंपनियों का भंडाफोड़, तीन आरोपी गिरफ्तार
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

Delhi Fake GST Bill दिल्ली में करोड़ों का जाली बिल बनाने वाली कई कंपनियों का भंडाफोड़ (Busted) किया गया है। ये कार्रवाई जीएसटी अधिकारियों (GST Officer) द्वारा की गई है। जीएसटी अधिकारियों ने 551 करोड़ रुपये के जाली बिल निकालने और गलत तरीके से 91 करोड़ रुपये का इनपुट कर क्रेडिट आगे देने के मामले छापेमारी की गई है। स्वर्गीय दिनेश गुप्ता, शुभम गुप्ता, विनोद जैन और योगेश गोयल जाली बिल बनाने के धंधे से जुड़े थे। इन आरोपियों ने खुद अपना जुर्म कबूल किया है।

तीन आरोपियों को 10 जुलाई को सीजीएसटी कानून में तहत गिरफ्तार किया और न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। एक बयान में कहा कि खुफिया सूचना के आधार पर केंद्रीय माल एवं सेवा कर (सीजीएसटी) आयुक्तालय, दिल्ली (पश्चिम) की कर निरोधक शाखा ने जाली बिलों जरिये 91 करोड़ रुपये का इनपुट कर क्रेडिट आगे देने के मामले का भंडाफोड़ किया है। इस मामले में शामिल कंपनियों में मेसर्स गिरधर एंटरप्राइजेज, मेसर्स अरुण सेल्स, मेसर्स अक्षय ट्रेडर्स, मेसर्स श्री पद्मावती एंटरप्राइजेज के अलावा 19 अन्य इकाइयां शामिल हैं।

इन 23 कंपनियों का गठन बिना माल की बिक्री के बिल निकालने और आगे आईटीसी देने के लिए किया गया था। मंत्रालय ने कहा कि स्वर्गीय दिनेश गुप्ता, शुभम गुप्ता, विनोद जैन और योगेश गोयल जाली इन्वॉयस निकालने के धंधे से जुड़े थे। इन आरोपियों ने स्वैच्छिक रूप से अपना बयान देकर दोष स्वीकार कर लिया है। तीन आरोपियों को 10 जुलाई को सीजीएसटी कानून में धारा 132 के तहत गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

Next Story