Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Fire: टीकरी कलां इलाके के गोदाम में लगी आग, 200 दमकल कर्मियों ने आग पर पाया काबू, हताहत होने की खबर नहीं

Delhi Fire: दमकल अधिकारी ने बताया कि खुले गोदाम में बड़ी मात्रा में पीवीसी सामग्री रखी जिसके कारण आग तेज़ी से फैली। आग पर सुबह सात बजे तक काबू पा लिया गया। दमकल की 20 गाड़ियां अब भी मौके पर हैं जहां गोदाम को ठंडा करने की प्रक्रिया चल रही है लेकिन खुले गोदाम में रखी सामग्री की प्रकृति को देखते हुए यह प्रक्रिया लंबी चलेगी।

Delhi Fire: टीकरी कलां इलाके में गोदाम में लगी आग, 200 दमकल कर्मियों ने आग पर पाया काबू, हताहत होने की खबर नहीं
X

टीकरी कलां इलाके में गोदाम में लगी आग

Delhi Fire दिल्ली के टीकरी कलां (Tikri Kalan) के एक खुले गोदाम में आज भीषण आग (Fire) लगने की घटना सामने आई है। जिसके बाद इलाके में अफरा-तफरी मच गई। इस आग को बुझाने में 200 दमकल कर्मी और 20 फायर ब्रिगेड (Fire Brigade) की गाड़ियां लगी। जिसके बाद 10 घंटे से बाद इस भीषण आग पर काबू पाया गया। इस आग में किसी प्रकार की कोई हताहत की खबर सामने नहीं आई है। आग लगने का कारण अभी पता नहीं चला। दिल्ली अग्निशमन सेवा (DFS) के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है।

दमकल अधिकारी ने बताया कि खुले गोदाम में बड़ी मात्रा में पीवीसी सामग्री रखी जिसके कारण आग तेज़ी से फैली। आग पर सुबह सात बजे तक काबू पा लिया गया। दमकल की 20 गाड़ियां अब भी मौके पर हैं जहां गोदाम को ठंडा करने की प्रक्रिया चल रही है लेकिन खुले गोदाम में रखी सामग्री की प्रकृति को देखते हुए यह प्रक्रिया लंबी चलेगी। गोदाम में चार दीवारी नहीं थी, इस वजह से आग के आसपास के क्षेत्रों में फैलने का जोखिम ज्यादा था। अधिकारियों ने बताया कि घटना में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

डीएफएस के निदेशक अतुल गर्ग ने बताया कि आग को काबू करने के लिए दमकल की 40 गाड़ियों और 200 से अधिक कर्मियों को तैनात किया गया। गर्ग के मुताबिक, अभी आग लगने के कारण का पता नहीं चला है। रविवार रात आठ बजकर करीब 35 मिनट पर पीवीसी बाजार में आग लगने से संबंधित कॉल आई। गोदाम में लगी आग, बड़े इलाके में फैल चुकी थी। उन्होंने बताया कियह पहली बार नहीं है कि टीकरी कलां इलाके की पीवीसी बाजार में भीषण आग लगी हो। इससे पहले भी कई बार यहां आग लगने की घटना हो चुकी है। आग को बुझाने के लिए दमकल की 32 गाड़ियों को लगाना पड़ा था।

Next Story