Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Crime: एक ही संपत्ति छह बैंकों में रखा गिरवी, सात करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोपी गिरफ्तार

Delhi Crime: इस आरोप में दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने गुड़गांव से गिरफ्तार किया। पुलिस ने कहा कि एक बैंक में महाराष्ट्र ने अपनी शिकायतों में आरोप लगाया कि राठी ने गृह ऋण लेने के लिए उनसे संपर्क किया और गुड़गांव स्थित एक संपत्ति को गिरवी रख दिया।

Delhi Crime: एक ही संपत्ति छह बैंकों में रखा गिरवी, सात करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोपी गिरफ्तार
X

एक ही संपत्ति छह बैंकों में रखा गिरवी, सात करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोपी गिरफ्तार

Delhi Crime दिल्ली में धोखाधड़ी (Delhi Fraud) का होश उड़ाने वाला मामला सामने आया है। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने जाली दस्तावेज बनाकर एक संपत्ति को छह बैंकों (Six Bank) के पास गिरवी रखने और उनसे सात करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले का खुलासा (Busted) किया है। इस आरोप में एक शख्स को गिरफ्तार (Arrested) किया है। जिसकी पहचान राजीव राठी (51) के तौर पर हुई है। इस आरोप में दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने गुड़गांव से गिरफ्तार किया। पुलिस ने कहा कि एक बैंक में महाराष्ट्र ने अपनी शिकायतों में आरोप लगाया कि राठी ने गृह ऋण लेने के लिए उनसे संपर्क किया और गुड़गांव स्थित एक संपत्ति को गिरवी रख दिया।

शिकायत में कहा कि जांच पड़ताल के बाद लोन की राशि दी गई

शिकायत में कहा कि जांच पड़ताल के बाद बैंकों ने उसे एक ही संपत्ति पर अलग-अलग समय पर लोन लेने की मंजूरी दे दी। सिंह ने कहा कि आरबीएल बैंक ने 2.50 करोड़ रुपये मंजूर किए थे जबकि बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने 1.30 करोड़ रुपये की मंजूरी दी थी। हालांकि, जब राठी वित्तीय अनुशासन बनाए रखने में विफल रहा तो बैंकों ने संपत्ति पर कब्जे की प्रक्रिया शुरू कर दी और समाचार पत्रों में एक विज्ञापन भी दिया। लेकिन बाद में दोनों बैंकों को इलाहाबाद बैंक से पता चला कि वही संपत्ति उनके पास भी गिरवी रखी गई है।

प्रारंभिक जांच के बाद मामला दर्ज

अधिकारी ने कहा कि प्रारंभिक जांच के बाद मामला दर्ज किया गया। जांच के दौरान पता चला कि राठी ने 2013 में शाहदरा औद्योगिक क्षेत्र में शगुन एंटरप्राइजेज नाम की एक कंपनी खोली थी और लोहे के नल का कारखाना किराए पर लिया था। सिंह ने कहा कि उन्होंने गुड़गांव में अपनी पैतृक संपत्ति को छह बैंकों के पास गिरवी रख दिया और 7 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी की। पुलिस ने कहा कि राठी ने गुड़गांव में अपनी पैतृक संपत्ति का अधिग्रहण किया था। उसने अन्य सह-आरोपियों के साथ बैंकों को धोखा देने के इरादे से कर्ज लेने के लिए शगुन एंटरप्राइजेज नाम की एक कंपनी खोली। पुलिस ने कहा कि राठी से अन्य सह-आरोपियों और बैंक अधिकारियों की संलिप्तता की जांच के लिए पूछताछ की जा रही है।

Next Story