Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली कोर्ट ने जबरन धर्मांतरण मामले में नहीं दी जमानत, फर्जी आधार से खुद को बताया था हिंदू लड़का, जानें मामला

महिला ने अपने बयान में कहा है कि आरोप युवक उसे राहुल शर्मा नाम बताकर मिला था। उसकी पहचान हिंदू थी और उसी रस्मों रिवाज से शादी भी की।

दिल्ली कोर्ट ने जबरन धर्मांतरण मामले में नहीं दी जमानत, फर्जी आधार से खुद को बताया था हिंदू लड़का, जानें मामला
X

दिल्ली (Delhi) में एक शख्स ने खुद को हिंदू बताकर एक लड़की से शादी की और अब उस जबरन धर्मांतरण (forced conversion) मामले में कोर्ट (Delhi Court) ने जमानत देने से भी इनकार कर दिया है। एक तरफ उस शख्स ने अपनी पहचान छुपाई (Fake Aadhaar Card) तो वहीं दूसरी तरफ लड़की जो जान से मारने की धमकी दी है। अब महिला (Woman) ने आरोप लगाया है कि शादी के बाद जब उसने धर्मांतरण का विरोध किया तो युवक ने उसे जान से मारने की धमकी दी थी।

दिल्ली की एक जिला कोर्ट के मेट्रोपोलिटन जज जितेंद्र प्रताप सिंह ने आदेश देते हुए कहा कि फर्जी आधार कार्ड राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक खतरा है, क्योंकि ये एक तरफ का जरूरी डॉक्यूमेंट है, जिसका गलत इस्तेमाल किया गया। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस आयुक्त से भी इस मामले में हस्तक्षेप के लिए कहा है। फिलहाल, जांच एजेंसी इस मामले की जांच कर रही हैं।

जान से मारने की धमकी दी

महिला ने अपने बयान में कहा है कि आरोप युवक उसे राहुल शर्मा नाम बताकर मिला था। उसकी पहचान हिंदू थी और उसी रस्मों रिवाज से शादी भी की। लेकिन बाद में लड़की के जन्मदिन पर महिला को पता चला की उसका पति मुसलमान है। इस खुलासे के बाद से ही वह उस पर इस्लामी परंपरा से शादी करना का दबाव बना रहा था। गाली देने और विरोध करने पर जान से मारने की धमकी भी दी गई।

Next Story