Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Delhi Coronavirus Updates: दिल्ली में कोरोना से अब तक सबसे ज्यादा की मौत, जानें पिछले 24 घंटे के चौंकाने वाले आंकड़े

Delhi Coronavirus Updates: इसी बीच, दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 25,219 नए मामले सामने आए जबकि एक ही दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक 412 मरीजों ने दम तोड़ दिया। राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर 31.61 फीसदी हो गयी है। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में यह जानकारी दी गई है।

Delhi Coronavirus Updates: दिल्ली में कोरोना से अब तक सबसे ज्यादा की मौत, जानें पिछले 24 घंटे के चौंकाने वाले आंकड़े
X

दिल्ली में कोरोना से अब तक सबसे ज्यादा की मौत

Delhi Coronavirus Updates दिल्ली में कोरोना (Corona Pandemic) से तांडव जारी है। हर रोज हजारों की संख्या में मामले आ रहे है। वहीं मौतों के आंकड़े भी दिन प्रति दिन बढ़ते चले जा रहे है। मौतों की संख्या बढ़ना दिल्ली प्रशासन के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। कोरोना की चौथी लहर (Fourth Wave) ने दिल्ली को पूरी तरह से तबाह कर दिया है। उधर, अस्पतालों (Delhi Hospitals) में संसाधनों की कमी से हर रोज लोग अपनी जान दे रहे है। इसी बीच, दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 25,219 नए मामले सामने (New Corona Cases) आए जबकि एक ही दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक 412 मरीजों ने दम तोड़ (Corona Death) दिया।

राजधानी में पॉजिटिव रेट 31.61 फीसदी

राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण दर 31.61 फीसदी हो गयी है। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में यह जानकारी दी गई है। सरकारी आंकड़े के मुताबिक, दिल्ली में शुक्रवार को 375 मरीजों की मौत हुई थी जबकि बृहस्पतिवार को 395, बुधवार को 368, मंगलवार को 381 और सोमवार को 380 मरीजों की जान गई थी। बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली में अब तक संक्रमण के 11,74,553 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 10.61 लाख मरीज ठीक हुए हैं जबकि इस घातक वायरस के कारण 16,559 लोगों की मौत हो चुकी है। शहर में पिछले 24 घंटे में 79,780 नमूनों की जांच की गई। राष्ट्रीय राजधानी में फिलहाल 96,747 मरीज उपचाराधीन हैं।

अस्पतालों को मरीजों के बारे में देनी होगी डिटेल

दिल्ली हाईकोर्ट ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के सभी अस्पतालों को निर्देश दिया कि कोविड-19 रोगियों को रोजाना भर्ती करने और उन्हें अस्पतालों से छुट्टी मिलने के बारे में सूचना मुहैया कराएं और ऐसे लोगों के बारे में भी सूचना दें जो एक अप्रैल के बाद दस दिनों से ज्यादा समय से भर्ती हैं। अदालत में दिल्ली के अस्पतालों और नर्सिंग होम में आईसीयू और ऑक्सीजन वाले बिस्तर तथा आईसीयू बिस्तर के अधिकतम इस्तेमाल को लेकर सवाल उठाए गए। न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति रेखा पल्ली की पीठ ने कहा कि लगता है कि अस्पतालों और नर्सिंग होम में बिस्तरों को ब्लॉक किया जा रहा है।

Next Story