Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ऑक्सीजन संकट: आखिरी वक्त में मैक्स और सर गंगाराम अस्पताल में पहुंचाई गई सप्लाई, बची कई मरीजों की जान

सर गंगाराम अस्पताल में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, अस्पताल में ऑक्सीजन का भंडार अगले दो घंटे और चलेगा, वेंटिलेटर और बीआईपीएपी मशीनें भी प्रभावी रूप से काम नहीं कर रही हैं। उन्होंने बताया कि गंभीर रूप से बीमार अन्य 60 मरीजों की जान भी खतरे में हैं और गंभीर संकट की आशंका है।

ऑक्सीजन संकट: आखिरी वक्त में मैक्स और सर गंगाराम अस्पताल में पहुंचाई गई सप्लाई, बची कई मरीजों की जान
X

आखिरी वक्त में मैक्स और सर गंगाराम अस्पताल में पहुंचाई गई सप्लाई

Delhi Corona virus Update दिल्ली में कोरोना महामारी (Corona Pandemic) से कोहराम मचा हुआ है। अस्पतालों में मरीजों की सांसें रुकने लगी है। क्योंकि अस्पताल ऑक्सीजन (Oxygen) की कमी से जूझ रहे है। इसी बीच, दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल (Sir Gangaram Hospital) में गंभीर रूप से बीमार 25 कोविड मरीजों (Covid Patients) की पिछले 24 घंटे में मौत हो गयी और 60 ऐसे अन्य अत्यंत अस्वस्थ मरीजों की जान भी खतरे में है। वहीं, दिल्ली इस समय ऑक्सीजन की भारी किल्लत से जूझ रही है। कई अस्पतालों में कुछ घंटों का ऑक्सीजन स्टॉक ही बचा है, जबकि कुछ जगह पर आखिरी समय में ऑक्सीजन पहुंचा है। दिल्ली के गंगाराम अस्पताल और मैक्स अस्पताल में शुक्रवार सुबह सप्लाई पहुंची। वहीं, दिल्ली के कई अस्पतालों द्वारा सरकार के सामने जल्द से जल्द ऑक्सीजन पहुंचाने की गुहार लगाई जा रही है। राष्ट्रीय राजधानी में ऑक्सीजन की कमी को लेकर गंभीर संकट (Oxygen Crisis) की स्थिति पैदा होने के बीच अधिकारियों ने शुक्रवार को इस बारे में बताया। एक सूत्र ने बताया कि घटना के पीछे संभावित वजह ऑक्सीजन की कमी हो सकती है।

गंभीर रूप से बीमार अन्य 60 मरीजों की जान भी खतरे में

सर गंगाराम अस्पताल में एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, अस्पताल में ऑक्सीजन का भंडार अगले दो घंटे और चलेगा, वेंटिलेटर और बीआईपीएपी मशीनें भी प्रभावी रूप से काम नहीं कर रही हैं। उन्होंने बताया कि गंभीर रूप से बीमार अन्य 60 मरीजों की जान भी खतरे में हैं और गंभीर संकट की आशंका है। अधिकारी के अनुसार अस्पताल के आईसीयू और आपात-चिकित्सा विभाग में गैर-मशीनी तरीके से वेंटिलेशन बहाल करने का प्रयास किया जा रहा है। उधर, दिल्ली के जीटीबी अस्पताल का हाल ऐसा है कि मरीजों को अस्पताल के बाहर ही इलाज दिया जा रहा है। जीटीबी अस्पताल के कैंपस में मरीजों की लंबी कतार लगी हुई है, जहां उन्हें प्राथमिक उपचार मुहैया कराया जा रहा है। क्योंकि अंदर अस्पताल में बेड्स की काफी दिक्कत है। दिल्ली में हो रही बेड्स की कमी के बीच भारतीय सेना ने डीआरडीओ के साथ मिलकर एक 250 बेड्स की आईसीयू यूनिट तैयार की है। कोरोना के कारण जिन मरीजों की हालत गंभीर है, उनका इलाज यहां किया जा सकेगा।

अस्पतालों के सामने ऑक्सीजन की सीमित आपूर्ति के कारण मुश्किल

दिल्ली के कुछ बड़े अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई लेकिन यहां कोविड-19 का इलाज कर रहे छोटे अस्पताल सीमित आपूर्ति की वजह से अब भी संकट का सामना कर रहे हैं। कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच दिल्ली के अस्पताल ऑक्सीजन की कमी का सामना कर रहे हैं। दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र को आदेश दिया कि वह तुंरत ऑक्सीजन की उन अस्पतालों को आपूर्ति करे, जहां उसकी जरूरत है और जहां पर कोविड-19 के उन मरीजों का इलाज हो रहा है, जिनकी हालत गंभीर है। अदालत ने टिप्पणी की कि ऐसा लगता है कि राज्य के लिए इन्सानों की जान की कोई कीमत नहीं है। केंद्र सरकार का पक्ष रख रहे सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने अदालत को आश्वस्त किया कि वह दिल्ली को आवंटित 480 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की व्यवस्था करेगी और यह बिना किसी बाधा के दिल्ली पहुंचेगी। हालांकि, कई निजी अस्पतालों ने शिकायत की कि उन तक कोई मदद नहीं पहुंची है।

Next Story